Top

भारत का स्वर्णिम दिन, आठ बार गूंजा राष्ट्रगान

भारत का स्वर्णिम दिन, आठ बार गूंजा राष्ट्रगान

गोल्ड कोस्ट,। भारतीय खिलाडियों ने 21 वें राष्ट्रमंडल खेलों में 10 वें दिन शनिवार को पदकों की बरसात करते हुए आठ स्वर्ण, पांच रजत और चार कांस्य सहित 17 पदक जीतकर पिछले ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों से आगे निकलना तय कर लिया है।
भारत के अब 25 स्वर्ण, 16 रजत और 18 कांस्य सहित 59 पदक हो गए हैं और खेलों के अंतिम दिन रविवार को उसका कम से कम छह पदक जीतना तय है जिससे वह ग्लास्गो की कुल 64 की पदक की संख्या को पीछे छोड़ देगा। भारत ने ग्लास्गो में 15 स्वर्ण, 30 रजत और 19 कांस्य पदक जीते थे। भारत का राष्ट्रमंडल खेलों में यह तीसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन हो चुका है। भारत ने 2002 के मैनचेस्टर खेलों में 30 स्वर्ण और 2010 के दिल्ली खेलों में 38 स्वर्ण जीते थे।
भारत को खेलों के 10 वें दिन मुक्केबाजों एमसी मैरीकॉम, गौरव सोलंकी और विकास कृष्णन, पहलवानों विनेश फोगाट और सुमित, भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा, निशानेबाज संजीव राजपूत और टेबल टेनिस खिलाड़ी मणिका बत्रा ने स्वर्ण पदक दिलाये।
स्टार महिला मुक्केबाज़ मैरीकॉम ने विश्व, एशिया और ओलंपिक पदकों के बाद अब अपने करियर में पहले राष्ट्रमंडल स्वर्ण पदक की कमी को पूरा कर लिया। मैरी (45-48 किग्रा) के स्वर्ण के अलावा गौरव सोलंकी ने भी 52 किग्रा और विकास कृष्णन ने 75 किग्रा में स्वर्ण पदक जीता जबकि अमित(46-49), मनीष कौशिक(60) और सतीश कुमार(91+) को रजत पदक मिला।
भारत ने इस तरह मुक्केबाजी में तीन स्वर्ण, तीन रजत और तीन कांस्य सहित कुल नौ पदक जीते जो राष्ट्रमंडल मुक्केबाजी में उसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। भारत ने पिछले ग्लास्गो खेलों में मुक्केबाजी में चार रजत और एक कांस्य सहित पांच पदक जीते थे।

Share it