Top

महिला क्रिकेट में बदलाव के सुझाव अनावश्यक: शिखा

महिला क्रिकेट में बदलाव के सुझाव अनावश्यक: शिखा

नई दिल्ली, 28 जून- भारतीय महिला क्रिकेट टीम की अनुभवी ऑलराउंडर शिखा पांडे ने कहा है कि महिला क्रिकेट को लोकप्रिय बनाने और दर्शकों को आकर्षित करने के लिए छोटी गेंद अथवा छोटी पिचों जैसे प्रयोगों से काेई सफलता नहीं मिलेगी बल्कि इसकी मार्केटिंग बेहतर होनी चाहिए।

शिखा ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की ओर से आयोजित एक वेबिनार में यह बात कही। शिखा ने भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच आठ मार्च को मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड में खेले गए टी-20 विश्व कप फाइनल का उदाहरण देते हुए कहा, "महिला क्रिकेट की पुरुषों के खेल से तुलना नहीं की जानी चाहिए। हमें इसे एक अलग खेल के रूप में देखना चाहिए। एक ऐसा खेल जिसे आठ मार्च 2020 को 86,174 दर्शकों ने स्टेडियम में बैठकर देखा जबकि करोड़ों लोगों ने टेलीविजन पर इसका सीधा प्रसारण देखा।"

तेज गेंदबाज ने कहा, " गेंद का आकार छोटा करने का तभी लाभ है जबकि इसका वजन पहले की तरह समान रहे। इससे गेंदबाजों को गेंद पर अपनी पकड़ मजबूत करने में मदद मिलेगी। विशेष रूप से स्पिन गेंदबाजों को इससे काफी लाभ होगा।"

शिखा ने पिच की लंबाई को 22 गज से छोटा करने के सुझाव को खारिज करते हुए कहा, "ओलंपिक में 100 मीटर फर्राटा दौड़ में पहला स्थान हासिल करने के लिए कोई महिला एथलीट 80 मीटर नहीं दौड़ती बल्कि पुरुषों के बराबर समय निकालकर दौड़ पूरी करती हैं। इसलिए किसी भी कारण से पिच की लंबाई छोटी करने का सुझाव सिरे से बेकार है।"

अनुभवी तेज गेंदबाज शिखा ने कहा, "दर्शकों को आकर्षित करने के लिए नियमों और महिला क्रिकेट के मूल स्वरूप से छेड़छाड़ करने के बजाए इसकी मार्केटिंग को बेहतर बनाने से काफी हद तक कामयाबी मिल सकती है।"

शिखा ने महिला क्रिकेट में प्रौद्योगिकी के अधिक से अधिक इस्तेमाल की वकालत करते हुए कहा, "डीआरएस, स्निकोमीटर और हॉटस्पॉट जैसी अन्य तकनीक का इस्तेमाल महिला क्रिकेट में भी किया जाना चाहिए। हम विश्व में कहीं भी खेलते हैं उसका सीधा प्रसारण भी होना चाहिए।"

महिला क्रिकेट में पिच छोटी करने तथा गेंद के आकार को कम करने जैसे सुझाव न्यूजीलैंड की कप्तान सोफी डिवाइन और भारतीय बल्लेबाज जेमिमा रोड्रिग्स ने हाल ही में आईसीसी के एक वेबिनार में दिए थे।

इसके बाद स्मृति मंधाना, रेचेल हेंस, ली ताहुहु, केट क्रॉस और निदा डार जैसी दिग्गज महिला खिलाड़ी इन सुझावों पर अपने-अपने विचार व्यक्त कर चुकी हैं। भारतीय बल्लेबाज स्मृति मंधाना ने पिचों को छोटा करने का सुझाव का समर्थन करते हुए कहा है कि दर्शकों की दृष्टि से यह काफी रोचक होगा।

Share it