Top

नोएडा में निर्माणाधीन इमारत की पहली मंजिल का हिस्सा गिरा, दो की मौत,कई गंभीर

नोएडा में निर्माणाधीन इमारत की पहली मंजिल का हिस्सा गिरा, दो की मौत,कई गंभीर

नोएडा-उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर (नोएडा) जिले के सेक्टर 11 में एक निर्माणाधीन बहुमंजिला बिल्डिंग गिर गई है। जानकारी के मुताबिक, मलबे में से निकाले गए चार लोगों को अस्पताल भेजा गया था, जिसमें से दो की मौत हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना का संज्ञान लेते हुए राहत और बचाव के निर्देश दिए हैं। पुलिस के साथ-साथ फायर ब्रिगेड की टीम घटनास्थल पर मौजूद है। साथ ही राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) भी राहत-बचाव कार्य में लगी हुई है।

घटना के बारे में अपर पुलिस आयुक्त श्रीपर्णा गांगुली ने बताया, 'सेक्टर 11 के बिल्डिंग F-2 में सोलर पैनल की मैन्युफैक्चिरिंग यूनिट है। उसी का फ्रंट पोर्शन गिर गया है। चार लोगों को रेस्क्यू किया गया है, बिल्डिंग की मालिका का कहना है कि प्लंबिंग के काम के दौरान हादसा हुआ है। बाकी इसमें जांच की जाएगी, तभी कुछ कहा जा सकता है।'

घायलों की पहचान गोपी, राहुल, ठेकेदार जैनेन्द्र और गंभीर रुप से घायल की अभी पहचान नहीं हो सकी है। इमारत का मालिक आरके भारद्वाज बताया जा रहा है। पुलिस उपायुक्त ने कहा कि इमारत की पहली मंजिल का हिस्सा कैसे गिरा है, इसका कारण जांच के बाद ही पता चल पायेगा। इनमे ठेकेदार जैनेन्द्र और गोपी की मौत हो गयी है |

पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने बताया कि सीएम योगी आदित्यनाथ खुद घटना की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। इमारत के पिछले हिस्से में सोलर पैनल बनाने वाली फैक्ट्री चलती है। निर्माण अगले हिस्से में चल रहा था, वही ढहा है। अब तक यह बात सामने आई है कि जब इमारत ढही तो उस वक्त 5 लोग इमारत में थे। इसमें एक निर्माणाधीन इमारत के मालिक की पत्नी और चार मजदूर थे । महिला दूसरी तरफ थी लेकिन फंस जरूर गई थी। एसीपी-2 रजनीश वर्मा ने बताया कि महिला को बचाव कार्य के दौरान सकुशल निकाला गया।

नोएडा सेक्टर-30 के जिली अस्पताल के ईएमओ डॉक्टर एचएम लवानिया ने बताया कि हादसे में घायल हुए दो मजदूरों की मौत हो गई है। बाकी एक को दिल्ली रेफर किया गया है और एक घायल मजदूर जिला अस्पताल में भर्ती है। घायलों को देखने के लिए नोएडा के पुलिस कमिश्नर और जिलाधिकारी खुद अस्पताल पहुंचे।

हादसे के बाद आसपास के इलाकों में दहशत का माहौल हो गया। स्थानीय लोगों की सूचना पर पहुंची पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीम ने बचाव कार्य शुरू कर दिया था। बाद में एनडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंची और मलबे में से चार लोगों को निकाल लिया गया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी घटना का संज्ञान लिया है और राहत एवं बचाव के निर्देश दिए हैं। घटना की गंभीरता को देखते हुए नोएडा के जिलाधिकारी सुहास एल वाई और पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह भी मौके पर पहुंच गए हैं।

उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश के शो विंडो कहे जाने वाले शहर नोएडा में इमारत गिरने का यह पहला मामला नहीं है। इसे पहले 17 जुलाई 2018 को ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी गांव में छह मंजिला इमारत गिरी थी, जिसमे नौ लोगों की मृत्यु हो गई थी।

Share it