Top

हजारों भूखे, प्यासे श्रमिक सैंकड़ों किमी. का पैदल सफर तय कर पहुंचे सहारनपुर.. जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण होने का खतरा बढ़ा

हजारों भूखे, प्यासे श्रमिक सैंकड़ों  किमी. का पैदल सफर तय कर पहुंचे सहारनपुर.. जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण होने का खतरा बढ़ा


सहारनपुर (गौरव सिंघल)। लाॅक डाउन का लगातार उल्लंघन होने से सहारनपुर जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण होने का खतरा बढ गया है। सीएमओ डा. बीएस सोढी ने रविवार को बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान सहारनपुर जनपद में पंजाब, हरियाणा, दिल्ली से हजारों मजदूर पहुंच रहे है। स्वास्थ्य विभाग ने सभी की जांच की और बसो को सेनेटाइज कर गन्तव्य स्थानों के लिए बसों से रवाना किया गया। गांधी पार्क मैदान में रविवार सुबह जिलाधिकारी अखिलेश सिंह, नगर आयुक्त ज्ञानेंद्र सिंह, एडीएम प्रशासन श्याम बहादुर सिंह, एडीएम वित विनोद कुमार की उपस्थिति में सीएमओ डा.बीएस सोढी, सीएमएस डा. एसके वाष्णेय, जिला मलेरिया अधिकारी एवं समन्वयक शिवांका गौड की टीम ने पंजाब, हरियाणा और दिल्ली से पहुंचे श्रमिकों एवं भूले भटके करीब साढे चार हजार लोगों के स्वास्थ्य की जांच की। बसो को सेनेटाइज कराया गया। प्रभु जी की रसोई की ओर से सेवा में लगे शीतल टंडन, पंकज गर्ग, राजीव अग्रवाल, संजय भसीन, कुलदीप धमीजा, ललित पोपली आदि सेवको ने श्रमिको को नाश्ता और भोजन कराया।

करीब 23 सौ भोजन के पैकेट देकर उन्हें सीतापुर, गोंडा, शाहजहांपुर, बदायूं, बरेली, मुरादाबाद, बिजनौर, शामली और नोएडा, गाजियाबाद आदि स्थानों के लिए रवाना किया गया। बीती रात 225 लोग हरियाणा के यमुनानगर से सहारनपुर पहुंचे थे। जिन्हें कमिश्नर संजय कुमार के निर्देश पर प्रशासन और नगर निगम ने राधा स्वामी सत्संग भवन में ठहरवाया। 96 मजदूर शामली और 79 बिजनौर छोटी बसोे में सवार कर भेजे गए। प्रभु जी की रसोई में पिछले एक हफ्ते से लाॅक डाउन के दौरान दो से ढाई हजार लोगों का भोजन दान दाताओं की सहायता से तैयार हो रहा है। संचालक एवं प्रमुख व्यापारी नेता शीतल टंडन ने जनपद के धनी-मानी लोगों से सब्जी और खाद्य सामग्री दिए जाने की अपील की है। देवबंद नगर में बाहर से पैदल पहुंचे करीब तीन दर्जन श्रमिकों के स्वास्थ्य की जांच चिकित्सा प्रभारी डा. इंद्राज सिंह की टीम द्वारा कराई गई। कृष्णा पैलेस में सामाजिक संगठनों ने भोजन खिलाया और एसडीएम देवेंद्र पांडे ने इन लोगों को बस उपलब्ध कराकर आगे के लिए रवाना किया।

हरियाणा के अंबाला जिले के केसरी स्थित बोतल प्लांट के बंद हो जाने से वहां के छह श्रमिक पैदल चलकर आज दोपहर देवबंद पहुंचे। शाहाजहांपुर के सलेमपुर समरा निवासी 22 वर्षीय सरोज यादव,उसके भाई असील पाद और जिला बदायू निवासी, भारत सिंह, श्याम सिंह, नाहर सिंह आदि ने बताया कि बोतल प्लांट बंद होने से उन्हें वहां से घरो को जाने को मजबूर होना पडा। सहारनपुर तक उन्हें पैदल ही यात्रा करनी पडी। देवबंद में घंटो के इंतजार के बाद एसडीएम के प्रयासों से इन सभी को वाहन उपलब्ध कराया गया।

Share it