Top

साहब भाई के अंतिम संस्कार के लिए नहीं है इतने पैसे, आपको जो उचित लगता है शव के साथ करो

साहब भाई के अंतिम संस्कार के लिए नहीं है इतने पैसे, आपको जो उचित लगता है शव के साथ करो

फर्रुखाबाद । फर्रुखाबाद जिले के मऊ दरवाजा थाने की पुलिस ने मानवता की मिसाल पेश की है। यहां पुलिस ने ऐसा काम किया है कि उनकी तारीफ करने से लोग खुद को रोक नहीं पा रहे हैं। बीमारी की वजह से सरकारी अस्पताल में शुक्रवार को एक युवक ने दम तोड़ दिया। पोस्टमाॅर्टम के बाद युवक के शव को रिश्तेदारों ने लेने से इनकार कर दिया। मृतक के भाई के पास इतने पैसे नहीं थे कि वो अंतिम संस्कार कर पाता और आने से भी मना कर दिया। ऐसे में इंस्पेक्टर समेत थाने की पुलिस आगे आई। सिपाहियों ने शमशान घाट तक शव को कंधा दिया। इंस्पेक्टर ने पूरे-विधान के साथ अंतिम संस्कार कराया।

पुलिस के अनुसार, जनपद फर्रुखाबाद के मऊ थाना क्षेत्र के टाउन हॉल में रहने वाले सोनू बाथम (30) के माता-पिता का 15 साल पहले निधन हो चुका था। सोनू का बड़ा भाई मोनू परिवार के साथ दिल्ली में रहता है और मजदूरी करके परिवार का पालन पोषण करता है।

Share it