Top

लाॅकडाउन में यूपी में पिछले साल से ज्यादा चीनी उत्पादन..अभी भी चल रही है 53 चीनी मिलें..

लाॅकडाउन में यूपी में पिछले साल से ज्यादा चीनी उत्पादन..अभी भी चल रही है 53 चीनी मिलें..

मेरठ, । लाॅकडाउन के बावजूद प्रदेश के गन्ना विभाग ने किसानों के हित में चीनी मिलों का संचालन जारी रखा। इसका नतीजा यह रहा कि प्रदेश की चीनी मिलों ने पिछले साल से भी ज्यादा गन्ने की पेराई करके ज्यादा चीनी उत्पादन किया। अब गन्ना विभाग ने किसानों के बचे गन्ने की पेराई करने के बाद ही चीनी मिलों को बंद करने के निर्देश दिए हैं।

मेरठ परिक्षेत्र के उप गन्ना आयुक्त राजेश मिश्र ने बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और गन्ना मंत्री सुरेश राणा के नेतृत्व में चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग द्वारा कोरोना महामारी की देशव्यापी विभीषिका के बीच भी किसानों के हित में निर्णय लिए जा रहे हैं। लाॅकडाउन के बावजूद किसानों को राहत देने के लिए चीनी मिलों का संचालन जारी रखा। प्रदेश के चीनी आयुक्त संजय आर भूसरेड्डी ने गन्ना विकास विभाग द्वारा लॉकडाउन की अवधि में भी चीनी मिलों के संचालन की प्रभावी कार्य योजना तैयार की थी। लाॅकडाउन के दौरान भी चीनी मिलों में प्रदेश एवं देश के दूसरे हिस्सों से आने वाले कच्चे सामान की आपूर्ति कराई गई। गन्ना क्रय केंद्रों से गन्ने को चीनी मिलों तक लाने में आने वाली दिक्कतों को दूर किया। इससे गन्ना पेराई और चीनी उत्पादन में नया कीर्तिमान बना है।

पर्ची जारी करने में भी कीर्तिमान

उप गन्ना आयुक्त ने बताया कि प्रदेश के 46.2 लाख गन्ना आपूर्तिकर्ता किसानों को वर्तमान पेराई सत्र 2019-20 में अब तक 6.13 करोड़ गन्ना पर्चियां जारी की गई है। जबकि पिछले वर्ष सामान्य परिस्थितियों में भी इस समय तक केवल 5.5 करोड़ गन्ना पर्चियां ही जारी की गयी थी। इससे प्रदेश की चीनी मिलों द्वारा अब तक 10715.40 लाख कुंटल गन्ने की पेराई कर 1216.8 लाख कुंटल चीनी का उत्पादन किया गया है। जबकि पिछले वर्ष इस समय तक केवल 10118.77 लाख कुंटल गन्ने की पेराई करके केवल 1163.69 लाख कुंटल चीनी का उत्पादन हो पाया था।

अभी भी पेराई कर रही 53 चीनी मिलें

वर्तमान पेराई सत्र में प्रदेश की कुल 119 चीनी मिलों द्वारा पेराई कार्य शुुरू किया गया था। 66 मिलों के पेराई समाप्त करने के बाद अभी भी 53 चीनी मिलें पेराई कार्य कर रही है, जबकि विगत वर्ष इस समय तक सामान्य परिस्थितियां होने के बावजूद भी केवल 30 चीनी मिलें ही चालू थी और 89 चीनी मिले पेराई कार्य बन्द कर चुकी थी।

मेरठ परिक्षेत्र में भी गन्ना पेराई व चीनी उत्पादन ज्यादा

उप गन्ना आयुक्त ने बताया कि मेरठ परिक्षेत्र में भी गन्ना पेराई एवं चीनी उत्पादन पेराई सत्र 2018-19 के सापेक्ष वर्तमान पेराई सत्र 2019-20 में अधिक हुआ है। पेराई सत्र 2018-19 में 13 मई 2019 तक गन्ना पेराई 1399.64 लाख कुंटल हुई थी जबकि वर्तमान पेराई सत्र 2019-20 में 13 मई 2020 तक गन्ना पेराई 1535.25 लाख कुंटल हो चुकी है। इसी प्रकार गत पेराई सत्र 2018-19 में 13 मई 2019 तक 157.76 लाख कुंटल चीनी का उत्पादन हुआ था जबकि वर्तमान पेराई सत्र 2019-20 में 13 मई 2020 तक 175.06 लाख कुंटल चीनी उत्पादन हो चुका है। उन्होंने बताया कि चीनी मिलें समस्त पेराई योग्य गन्ने की पेराई करने के बाद ही बंद होंगी ।

Share it