Top

मुख्यमंत्री की सख्ती के बाद मेरठ में सुधरी हालत,धीरे-धीरे कम हो रही है कोरोना की रफ़्तार

मुख्यमंत्री की सख्ती के बाद मेरठ में सुधरी हालत,धीरे-धीरे कम हो रही है कोरोना की रफ़्तार

मेरठ, 29 मई । जनपद में कोरोना संक्रमित मरीजों के साथ लापरवाही का मामला गूंजने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का हस्तक्षेप लाभकारी साबित हुआ है। मुख्यमंत्री के सख्ती बरतने के बाद से जनपद में कोरोना की रफ्तार कुंद हुई है और मेडिकल काॅलेज की हालत में भी सुधार हुआ है। अब जिले में सक्रिय केसों की संख्या केवल 79 रह गई है।

मेडिकल काॅलेज में भर्ती कोरोना मरीजों के इलाज में लापरवाही और अव्यवस्था के कई ऑडियो-वीडियो वायरल हुए। भाजपा महानगर अध्यक्ष के पीएसओ और उसके पिता की मौत के मामले में भी डाॅक्टरों पर लापरवाही बरतने के आरोप लगे। इस फजीहत के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्ती बरती और मेरठ में प्रमुख सचिव सिंचाई, आईजी पीटीएस लक्ष्मी सिंह, केजीएमयू लखनऊ के चिकित्सक डाॅ. सूर्यकांत त्रिपाठी और डाॅ. वेदप्रकाश को जनपद भेजा।

प्रमुख सचिव ने यहां के प्रशासन को चुस्त किया तो आईजी रेंज प्रवीण कुमार और आईजी पीटीएस लक्ष्मी सिंह ने पुलिस महकमे में जोश भरा। इसके बाद ही पुलिस प्रशासन ने पूर्णबंदी लागू करने में सख्ती बरती और सप्ताह में दो दिन संपूर्ण पूर्णबंदी लागू हुआ, जिसका सख्ती से पालन कराया जा रहा है।

चिकित्सकों ने बदली मेडिकल की तस्वीर

मुख्यमंत्री द्वारा भेजे गए डाॅ. वेदप्रकाश ने मेडिकल काॅलेज की प्रशासनिक व्यवस्था को सुधारा। इसके साथ ही डाॅ. सूर्यकांत त्रिपाठी व डाॅ. विमल कुमार ने मेडिकल के डाॅक्टरों को कोरोना मरीजों से व्यवहार में बदलाव करने की हिदायत दी। कोरोना वार्ड में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए। जिससे सारी व्यवस्था कैमरों की निगरानी में रहें। डाॅ. वेदप्रकाश अभी भी लखनऊ से मेडिकल काॅलेज की हालत पर निगाह रखे हुए हैं।

प्रिंसिपल बदलने से भी हालत सुधरे

मेडिकल काॅलेज में मची अव्यवस्था के बाद मुख्यमंत्री ने यहां के प्रिंसिपल डाॅ. आरसी गुप्ता और सहारनपुर मेडिकल काॅलेज के प्रिंसिपल डाॅ. अरविंद त्रिवेदी को हटा दिया। मेरठ में डाॅ. एसके गर्ग को नया प्रिंसिपल बनाया गया। तभी से मेडिकल काॅलेज की हालत में सुधार आना शुरू हुआ। खुद मुख्यमंत्री भी अधिकारियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बैठक करके हालत का जायजा ले रहे हैं।

कोरोना संक्रण की रफ्तार में आई कमी

एक समय मेरठ में लगातार 24 से लेकर 25 और 26 तक रोजाना कोरोना केस मिल रहे थे। अब यह संख्या घटकर पांच-सात तक सिमट गई है। जबकि मरीजों के स्वस्थ होने की रफ्तार में तेजी आई है। मेरठ में अभी तक कोरोना के 400 केस सामने आए हैं। इनमें से 25 लोगों की मौत हो चुकी है और 296 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। मेरठ में अब केवल 79 सक्रिय केस रह गए हैं।

सीएमओ डाॅ. राजकुमार का कहना है कि कोरोना पर हम जल्दी ही विजय हासिल कर लेंगे। इसमें प्रशासन के साथ-साथ आम जनता का भी अहम योगदान है। लोगों को पूर्णबंदी का सख्ती के साथ पालन करना चाहिए।

Share it