Top

मेरठ-खेतों में गन्ना रहने तक चलेगी चीनी मिलें : उप गन्ना आयुक्त

मेरठ-खेतों में गन्ना रहने तक चलेगी चीनी मिलें : उप गन्ना आयुक्त

मेरठ, 11 मई । कई दिनों से चीनी मिलों के बंद होने की अटकलों पर सोमवार को विराम लग गया। शासन ने पेराई योग्य समस्त गन्ना समाप्त होने के बाद ही चीनी मिलों के बंद होने का ऐलान किया है।

मेरठ परिक्षेत्र के उप गन्ना आयुक्त ने बताया कि सोमवार को प्रदेश के गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग मंत्री सुरेश राणा की अध्यक्षता में प्रमुख सचिव चीनी उद्योग संजय भूसरेड्डी ने सभी उप गन्ना आयुक्त और जिला गन्ना अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बैठक की। बैठक में बचे हुए गन्ना क्षेत्रफल के पुनः सर्वेक्षण, फीडिंग एवं अतिरिक्त सट्टे की समीक्षा करते हुए सट्टे से अतिरिक्त गन्ने की फीडिंग कराने के निर्देश दिए गए। इससे किसानों को अपना बचा हुआ गन्ना चीनी मिलों को बेचने में सहायता मिलेगी। गन्ना मंत्री ने कहा कि खेतों में खड़े गन्ने की पेराई हुए बिना चीनी मिल बंद नहीं होगी। बैठक में चीनी मिलों की पेराई क्षमता, गन्ना मूल्य भुगतान की स्थिति की समीक्षा करते हुए तत्काल गन्ना मूल्य का भुगतान कराने के निर्देश दिए गए।

गन्ना सर्वेक्षण कार्य वर्ष 2020-21 की समीक्षा करते हुए सर्वेक्षण नीति के अनुसार गन्ना सर्वेक्षण का कार्य पूर्ण कराने को कहा गया। मेरठ परिक्षेत्र के मेरठ जनपद में 36.06 लाख कुंतल, गाजियाबाद में 0.80 लाख कुंतल, हापुड में 3.72 लाख कुंतल, बुलन्दशहर में 5.80 लाख कुंतल एवं बागपत में 21.84 लाख कुंतल कृषकों के खडे गन्ने का सर्वेक्षण किया गया है। मेरठ परिक्षेत्र में कुल 68.22 लाख कुन्तल अतिरिक्त सट्टा कर फीडिंग कार्य किया जा रहा है। गन्ना मंत्री ने मिल यार्ड, क्रय केन्द्रों, खाद गोदामों आदि सार्वजनिक स्थानों पर शारीरिक दूरी का पालन करने का निर्देश दिया है।

Share it