Top

केंद्र व प्रदेश सरकार गांव,गरीब और किसान विरोधी है, जयंत पर हमला सुनियोजित-अजित सिंह

केंद्र व प्रदेश सरकार गांव,गरीब और किसान विरोधी है, जयंत पर हमला सुनियोजित-अजित सिंह

बुलंदशहर,- राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह ने केंद्र और प्रदेश सरकार पर गांव,गरीब और किसान विरोधी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी जी अपने मन की बात तो कहते हैं लेकिन देश के लोगों की मन की बात नहीं सुनते ।

श्री सिंह आज यहां प्रदर्शनी मैदान में आयोजित "किसान बचाओ महापंचायत'' को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने ने कहा कि केंद्र सरकार ने बगैर तैयारी के नोटबंदी की और जीएसटी को लागू कर दिया,जिसका खामियाजा अब भी जनता को भुगतना पड़ रहा है। उन्हाेंने कहा कि करोना संक्रमण के नाम पर देश में लॉकडाउन लागू कर दिया ,जिसके चलते अर्थव्यवस्था चौपट कर दी गई ।

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा काले धन को समाप्त करने की बात करती है, लेकिन खुद काले धन के संरक्षक है। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार की गलत नीतियों के चलते देश में भ्रष्टाचार,बेरोजगारी और महंगाई बढ़ रही है। उन्होंने 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के वायदे को जुमला बताते हुए कहा कि हाल में लागू तीनों कृषि अध्यादेश गांव किसान विरोधी हैं, इससे किसान बर्बाद हो जाएगा।

रालोद अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि योगी सरकार के चलते प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बद से बदतर हो रही है। यहां गुंडा एवं जंगलराज कायम है। उन्होंने केंद्र और प्रदेश की आलोचना करते हुए कहा कि यदि यही हालत रही तो देश की आधी आबादी गरीबी की रेखा से नीचे आ जाएगी। लॉकडाउन के चलते प्रवासी मजदूरों की हुई बदहाली पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार के पास यातायात के सभी साधन उपलब्ध थे ,मजदूरों को सही प्रकार से उनके प्रदेश तक पहुंचाने के साथ उनके इलाज एवं भोजन की व्यवस्था सरकार कर सकती थी ,लेकिन केंद्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार ने कोई कदम नहीं उठाए और मजदूरों को अपने हाल पर छोड़ दिया ।

उन्होंने हाथरस की घटना का जिक्र करते हुए चौ कहा कि सरकार नहीं चाहती की जनता के दुख दर्द प्रदेश के बदहाली अपराध व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति की चर्चा मीडिया में हो या विपक्षी दलों के नेता इन मुद्दों को जनता के बीच उठाएं। यही वजह रही कि हाथरस में पीड़िता के परिवार से मिलकर वास्तविकता जानने और उनके दुख दर्द में शामिल होने के लिए जब जयंत चौधरी वहां पहुंचे तो पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज किया। इस घटना को चौधरी अजित सिंह ने साजिश करार देते हुए कहा कि इसके पीछे सरकार का यही उद्देश्य था कि जयंत पर लाठी पडने से सरकार के अत्याचारों के विरोध में आवाज बुलंद करने वाली जनता भयभीत हो खामोश हो जाएगी ।

रालोद अध्यक्ष ने महापंचायत में भाग लेने आए किसानों से तीन नवंबर को बुलंदशहर विधानसभा के उपचुनाव में सपा समर्थित लोकदल प्रत्याशी पी के सिंह के पक्ष में मतदान करने की अपील की।

महापंचायत में सपा के पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव ने कहा कि प्रदेश में गन्ना किसानों का 14000 करोड़ रुपया अभी भी चीनी मिलों पर बकाया है । मक्का ,धान ,बाजरा ,गेहूं की फसल समर्थन मूल्य से कम दाम पर किसान बेचने पर मजबूर है। उन्होंने कहा कि चौधरी चरण सिंह के सपनों को साकार करने के लिए सपा ने रालोद के साथ महागठबंधन किया है। जयंत चौधरी पर हाथरस में हुई लाठीचार्ज एवं बदसलूकी को चौधरी चरण सिंह की विरासत पर प्रहार करार देते हुए कहा कि प्रदेश की जनता इस अपमान का बदला जरूर लेगी ।

महापंचायत को रालोद के महासचिव तिलोक चंद त्यागी, एमएलसी जितेंद्र यादव ,संजय लाठर के अलावा रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद मसूद ,पूर्व मंत्री ठाकुर तेजपाल सिंह ने भी संबोधित किया । महापंचायत की अध्यक्षता पूर्व सांसद मुंशी रामपाल सिंह ने संचालन लोक दल के जिला अध्यक्ष आसिफ गाजी ने किया ।

Share it