Top

लखनऊ पुलिस ने 59 करोड़ का गबन करने वाले नौ ठगों को किया गिरफ्तार, कई अफसरों ने भी लगा रखा है पैसा

लखनऊ पुलिस ने 59 करोड़ का गबन करने वाले नौ ठगों को किया गिरफ्तार, कई अफसरों ने भी लगा रखा है पैसा

लखनऊ,-उत्तर प्रदेश की लखनऊ पुलिस ने गोसाईगंज क्षेत्र में कंपनी बनाकर निवेशकों को हर माह पांच प्रतिशत ब्याज देने का वादा कर 59 करोड़ रुपये का गबन करने वाले गिरोह के नौ ठगों को आज गिरफ्तार कर जेल भेज दिया ।

पुलिस प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हरिओम यादव ने सदरपुर करोरा गांव में अपनी जमीन पर कार्यालय बनाकर अलास्का रियल एस्टेट डेवलपर्स नामक कंपनी बनाई। कंपनी मे 11 निदेशक बनाये थे। उन्होंने बताया कि कंपनी के लोग निवेशकों को दुबई में बुर्ज खलीफा और मुंबई में कई बड़े रीयल स्टेट प्रोजेक्ट में निवेश के नाम प ठगते थे। उन्होंने बताया कि हरिओम ने इसके अलावा अलास्का कमोडिटीज नाम की दूसरी कंपनी बनाई और लोगों को रातो-रात अमीर बनाने के सपने दिखाये थे।

उन्होंने बताया कि इस ठग कंपनी अलास्का रियल एस्टेट डेवलपर्स ने करीब 550 लोगों को अपना शिकार और 59 करोड़ रुपया ठगा। उन्होंने बताया कि ठग कंपनी ने लोगों ने पैसे से 15 बीघा जमीन भी खरीदी थी। कुछ जमीन पहले बेची गई थी। आज मुखबिर से सूचना मिली ये लोग बची जमीन को बेचकर भागने की फिराक में है। सूचना रामबाग मुन्शीगंज से सुभाष कुमार यादव, सुरेन्द्र कुमार यादव, कौशलेन्द्र यादव, ललित कुमार वर्मा, गजल सिंह यादव, ओम सिंह, अवधेश कुमार मिश्रा, आशीष कुमार समेत नौ आरोपियों को गिरफ्तार किया। ठग गिरोह का मास्टरमाइंड और अलास्का कंपनी का प्रबंध निदेशक हरिओम अभी भी फरार है।

प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी के कर्मचारी निवेशकों को झांसे में लेने के लिए निवेश की गई रकम का एडवांस में चेक और पांच फीसदी हर महीने ब्याज का लालच देते थे और उनके झांसे में आसानी से लोग फंस जाते थे। उन्होंने बताया कि कंपनी में कई बड़े अधिकारियों ने भी अपना पैसा लगाया था। जब लोग ब्याज का पैसा मांगते थे तो उनके साथ बदसलूकी करने के साथ मारने की धमकी देते थे। जब लोगों को पैसा नहीं मिला तो उन्होंने थाने मे शिकायत दर्ज करानी शुरु की। इस सिलसिले में अभी तक 111 लोगाें ने थाने में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष 15 मार्च को कृष्णानगर पुलिस ने हरिओम और उसके कई साथियों को कार में ले जाते समय पांच करोड़ की नकदी के साथ गिरफ्तार कर जेल भेजा था। जिसके बाद हरिओम जमानत पर बाहर है। पकड़े गए निदेशकों के मुताबिक, हरिओम ने कंपनी के पैसों से दुबई में जमीन खरीदी है। उन्होंने बताया कि हरिओम और उसके छह फरार साथियों की पुलिस तलाश कर रही है। उन्होंने बताया कि गिरोह के सदस्यों पर गैगेस्टर के तहत भी कार्रवाई की जायेगी।

पुलिस उपायुक्त दक्षिणी रईस अख्तर ने प्रेसवार्ता कर बताया कि 28 जुलाई को गोल्फ सिटी में रहने वाले महेश यादव ने गोसाईगंज थाने में तहरीर दी। बताया कि अलस्का रियल स्टेट एंड डेवेलेपर्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के निदेशक हरिओम यादव और उसके साथी सुभाष यादव, सुरेन्द्र यादव, नंद किशोर, गजल यादव, रुपाली गुप्ता, आशीष वर्मा, राकेश कुमार, ओम सिंह यादव, अवधेश मिश्रा, ललित वर्मा, शैलेन्द्र, बृजेन्द्र ने कंपनी बनाकर निवेशकों का पैसा कंपनी में जमाकर लाभांस प्रतिमाह ब्याज देने का वादा किया। गारंटी के तौर पर कंपनी के मालिक ने जमाराशि का चेक सहमति पत्र देकर ​निवेशकों से पैसा जमा कर लिया। इसके बाद निवेशकों से पैसा मांगने पर गाली गलौच की जा रही है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरु कर दी।

दुबई तक फैला इनका नेटवर्क

पुलिस उपायुक्त दक्षिणी ने बताया कि इन लोगों का यह कारोबार यूपी के सुलतानपुर व रायबरेली से लेकर गुजरात के सूरत तक फैला हुआ है। इनके नेटवर्क दुबई में भी है। कपंनी का एमडी हरिओम के सात बैंक खातों का पता चला है, जिनमें जमा निकासी की गई है। इन खातों को सीज कराने की कार्रवाई की शुरु कर दी गयी है। बीती छह फरवरी को कृष्णानगर में पुलिस ने इसी कंपनी के पांच करोड़ रुपये पकड़े थे। इस दौरान कंपनी का एमडी हरिओम व उसके सात साथी गिरफ्तार किए गए थे।

Share it