Top

मात्र पांच रुपए में मिलता है स्कूल में प्रवेश

मात्र पांच रुपए में मिलता है स्कूल में प्रवेश

झुंझुनू। राजस्थान में झुंझुनू शहर में राणीसती बालिका प्राथमिक विद्यालय एक ऐसा निजी स्कूल है जहां तीन सौ से ज्यादा बेटियों को मात्र पांच रुपए लेकर पांचवीं तक पढ़ाया जा रहा है। इस स्कूल में हर साल प्रत्येक क्लास की एक होनहार बालिका को 1001 रुपए की स्कॉलरशिप दी जाती है।
इस स्कूल को चलाने का सालभर का खर्च करीब सात लाख रुपए है। करीब 62 साल पहले राणी सती मंदिर ट्रस्ट ने मंदिर परिसर में इस स्कूल को शुरू किया था। वर्तमान में यहां 340 छात्रायें पढ़ रही हैं। पांच रुपए का प्रवेश शुल्क एक तरह से टोकन मनी ही है। यहां पढऩे वाली गरीब और जरूरतमंद बेटियों को पोशाक, किताबें, बैग आदि निशुल्क दिए जाते हैं। पांचवीं के बाद ये बालिकाएं इसी संस्था की बारहवीं तक की स्कूल में प्रवेश ले सकती हैं।
इस स्कूल में अंग्रेजी माध्यम की भी स्कूल है जिसमें लड़कियों के साथ लड़कों को भी प्रवेश दिया जाता है। कुल मिला कर तीन निजी स्कूलों में 1200 से ज्यादा लड़कियां बहुत ही कम फीस में पढ़ाई कर रही हैं। राणी सती मंदिर ट्रस्ट ने 1955 में अपने सेवा प्रकल्पों के तहत बेटियों को पढ़ाने के लिए प्राइमरी स्तर की स्कूल शुरू की। इसमें बिना किसी जाति भेदभाव के गरीब और जरूरतमंद परिवारों की बेटियों को प्रवेश दिया गया तथा उस समय मात्र पांच रुपए में प्रवेश देने का फैसला किया और पांच साल तक कुछ भी फीस नहीं रखी। इसके बाद अंग्रेजी माध्यम की प्राइमरी और बारहवीं तक की एक और स्कूल भी प्रारंभ कर दी गई, लेकिन इस पहली स्कूल की व्यवस्थाओं में परिवर्तन नहीं किया गया।

Share it