Top

देश में कोरोना पाजिटिव मरीजों की संख्या 606 हुई..अब तक 11 लोगों की मौत

देश में कोरोना पाजिटिव मरीजों की संख्या 606 हुई..अब तक 11 लोगों की मौत


नयी दिल्ली। पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना वायरस 'कोविड-19' के 100 से अधिक नये मामले सामने आए हैं और अब तक इससे प्रभावितों की संख्या 606 हो गई है जिनमें 563 भारतीय और 43 विदेशी नागरिक हैं। कोरोना वायरस के कहर से अब तक देश में 11 लोगों की मौत हो गई है।

महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले सबसे अधिक बढ़े हैं। वहां कल तक 86 लोग इससे ग्रसित पाये गये थे लेकिन आज इस घातक विषाणु की चपेट में 42 लोग और आ गये। राज्य में अब तक 128 लोग इससे पीड़ित पाये गये हैं।

केरल में भी कोरोना वायरस तेजी से पैर पसार रहा है। राज्य में पिछले 24 घंटे में 22 नये लोग इससे संक्रमित पाये गये हैं। वहां अब तक इस विषाणु से प्रभावितों की संख्या 109 तक पहुंच गयी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बुधवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में बताया कि कोेराेना वायरस की जांच के लिए 118 सरकारी प्रयोगशालाओं में पूरी तैयारियां हैं और इनकी परीक्षण क्षमता प्रतिदिन 12 हजार नमूनों की जांच करना है। इसके अलावा निजी क्षेत्र की 28 प्रयोगशालाओं को भी कोरोना वायरस जांच की अनुमति दे दी गई है और इनके 16 हजार कलेक्शन सेंटर हैं जो भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के चिकित्सा मानकों के अनुरूप कार्य करेंगे।

उन्हाेंने एक बार फिर स्पष्ट किया कि लोग हाइड्रो क्लोरोक्वीन नामक दवा का इस्तेमाल कर रहे हैं, लेकिन इस दवा का साइड इफेक्ट है, हमने किसी को भी इस दवा का इस्तेमाल नहीं करने को कहा है और यह दवा सिर्फ उन्हीं चिकित्सकों को दी जा रही है जो कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों को उपचार कर रहें है अथवा वे लोग जिनके परिजन कोरोना वायरस से पाजिटिव पाये गये हैं और वे उनकी तीमारदारी कर रहे हैं। श्री अग्रवाल ने कहा कि अगर आम आदमी बिना किसी डॉक्टरी सलाह के इस दवा को लेगा तो इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं। यह दवा एहतियात के तौर पर ' प्रिवेंटिव मेडिसिन' के तौर पर दी जाती है। ये दवा सिर्फ उनके लिए है जो चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े हैं।


Share it