Top

सहारनपुर : प्रशासन के कड़े रूख के चलते नागरिकता कानून के खिलाफ जमीयत महमूद गुट प्रदर्शन और जुलूस नहीं निकाल पाए


पूरे सहारनपुर मंडल में हाईअलर्ट, कमिश्नर, डीआईजी ने भ्रमण कर खुद रखी स्थिति पर निगाह

पूरे सहारनपुर जिले में इंटरनेट सेवाएं रही ठप्प

सहारनपुर (गौरव सिंघल)। पूरे सहारनपुर जिले में आज तनावपूर्ण शांति रही। प्रशासन के कड़े रूख के चलते जमीयत उलमाए हिंद महमूद मदनी गुट के लोग धरना, प्रदर्शन नहीं कर पाए। पूरे जिले में इंटरनेट सेवाएं बंद रही, जिससे लोगो को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। वहीं जमीयत की ओर से कानून के खिलाफ ज्ञापन दिए गए।

जमीयत उलमाए हिंद ने घोषणा की थी कि शुक्रवार दोपहर जुम्मे की नमाज के बाद प्रदर्शन किया जाएगा। एसपी देहात विद्यासागर मिश्र देवबंद में दारूल उलूम क्षेत्र में खानकाह पुलिस चौकी पर स्वयं मौजूद रहे। डीएम आलोक पांडे और एसएसपी दिनेश कुमार पी सहारनपुर जिला मुख्यालय पर मौजूद रहे। जबकि कमिश्नर संजय कुमार डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल भ्रमण कर स्थिति पर नजर रखे हुए थे। दोपहर में मंडल के दोनों आला अफसर उत्तर प्रदेश के सबसे संवेदनशील नगर देवबंद में मौजूद रहे।

उधर, दारूल उलूम देवबंद के छात्रों पर संस्था के मोहतमिम मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी ने स्वयं नजर रखी और किसी भी छात्र को कोई भी खुराफात करने की कोई इजाजत नहीं थी। इसके बावजूद देवबंद नगर और क्षेत्रवासी थोडे डरे और सहमे दिखे। लगातार हो रही बारीश में भी आवाजाही और चहल-पहल ठिठकी थी, लेकिन मुस्लिमों के प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए शंका-आशंका से बेचैन दिखाई दिए। दो दिन पूर्व मुस्लिम छात्रों की अराजक भीड़ अचानक देवबंद के बाजारों में निकलकर हिंदुओं में भय का माहौल पैदा कर दिया था। कार्रवाई को लेकर शासन-प्रशासन का रूख नरम रहा। मात्र दिखावे के लिए 250 छात्रों के खिलाफ देवबंद कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया। डीएम आलोक पांडे ने इतना जरूर किया कि मदरसों के प्रबंधकों की बैठक एक दिन पहले बुलाकर उन्हें हिदायत दी कि किसी ने भी कानून व्यवस्था को तोड़ने का प्रयास किया तो कानून अपना काम सख्ती से करेगा। दारूल उलूम के मोहतमिम अबुल कासिम ने भी मदरसा छात्रों से किसी भी विरोध प्रदर्शन में भाग न लेने की अपील की थी।

Share it
Top