Top

उन्नाव के MLA कुलदीप सेंगर ने आईपीएस अफसर को भी मार दी थी गोली,अभी तक नही मिला न्याय..!

उन्नाव के MLA कुलदीप सेंगर ने आईपीएस अफसर को भी मार दी थी गोली,अभी तक नही मिला न्याय..!

लखनऊ। उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के केस में सजा काट रहे आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के जघन्य अपराधों की लिस्ट बहुत लंबी है। उनपर अपने भाई के साथ मिलकर कई घटनाओं को अंजाम लगाने का आरोप है। आरोपी सेंगर पर डीआईजी रैंक के उत्तर प्रदेश कैडर के एक आईपीएस अधिकारी राम लाल वर्मा का आरोप है कि कभी सेंगर भाइयों ने उनपर चार गोलियां दागी थीं। यह भी आरोप है कि यूपी में खासा रसूख रखने वाले सेंगर बंधुओं ने आईपीएस अधिकारी वर्मा पर जानलेवा हमले के अहम दस्तावेज गुम करवाए थे। वहीं इस मामले की सुनवाई सालों तक टलवा दी थी। अब तक इस मामले में न्याय नहीं मिला है।

साल 2004 में बतौर पुलिस अधीक्षक वर्मा ने उन्नाव के एक अवैध खनन स्थल पर दबिश दी थी। उस दौरान कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सेंगर और उनके आदमियों ने पुलिस अधीक्षक को गोली मार दी थी। हालांकि, संयोगवश आईपीएस अधिकारी राम लाल वर्मा की जान बच गई। मगर आईपीएस अधिकारी को गोली मारने के मामले को दबाने के लिए सेंगर ने उन दिनों ऐसा राजनीतिक दबाव बनाया था कि थाने से महत्वपूर्ण केस डायरियां चोरी हो गईं। यही वजह है कि इतने बड़े मामले की सुनवाई 15 सालों में एक बार भी न हो सकी।

उन्नाव में गंगा किनारे माफिया गिरोह द्वारा अवैध खनन रेत के कार्य की सूचना जब मिली, वर्मा उक्त स्थल पर पहुंचे। उनपर सेंगर के भाई और उनके गुर्गों ने गोलीबारी शुरू कर दी। उन्होंने चार गोलियां मारी गई थीं। हालांकि, समय पर अस्पताल में इलाज होने से उनकी जान बच गई।

पीड़ित वर्मा ने बताया कि चार बार के विधायक सेंगर के रसूख के आगे मामले की जांच और मुकदमे की सुनवाई प्रभावित होती थी। मुकदमे की स्थिती का पता लगाने के लिए उन्हें आरटीआई फाइल करनी पड़ती थी। मगर मामले की सुनवाई कभी शुरू नहीं हुई।

Share it
Top