Top

उत्तर प्रदेश में मास्क पहनना हुआ ज़रूरी..अब तक 5000 से ज्यादा लोगो से वसूला जा चुका है जुर्माना ..

उत्तर प्रदेश में मास्क पहनना हुआ ज़रूरी..अब तक 5000 से ज्यादा लोगो से वसूला जा चुका है जुर्माना ..

लखनऊ 22 मई - कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिये मास्क और सोशल डिस्टेसिंग के नियमों के पालन की बारंबार अपील करने के बावजूद चेतावनी को नजरअंदाज कर सड़कों पर बेपरवाह घूमने वाले पांच हजार से अधिक लोगों से अब तक जुर्माना वसूला जा चुका है।

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने शुक्रवार को पत्रकारों को बताया कि प्रदेश में मास्क को अनिवार्य कर दिया गया है। अब तक सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने वाले पांच हजार लोगों पर जुर्माना लगाया गया है। उन्होने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि खुद की और परिवार की सुरक्षा को ताक में रखकर जो लोग बगैर मास्क के घूमते देखे जायेंगे, पुलिस प्रशासन उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने में तनिक भी देर नहीं लगायेगा।

उन्होने कहा कि लाॅकडाउन की सफलता के लिए हर स्तर पर सतर्क एवं सावधान रहना आवश्यक है। लाॅकडाउन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन कराने के लिये जिला प्रशासनों को निर्देश देते हुए कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि कहीं भी भीड़ एकत्र न होने पाए। उन्होंने पुलिस को प्रभावी पेट्रोलिंग करने के निर्देश देते हुए कहा है कि बाॅर्डर क्षेत्र के साथ-साथ हाईवे तथा एक्सप्रेस-वे पर नियमित पेट्रोलिंग से दुर्घटनाओं को रोकने में बड़ी मदद मिलती है। उन्होंने बाजारों में फुट पेट्रोलिंग की उपयोगिता पर बल दिया है।

अपर मुख्य सचिव ने निर्देश दिए हैं कि शहरी इलाकों में यातायात प्रबन्धन चुस्त-दुरुस्त रखा जाए तथा ग्रामीण इलाकों में भी सघन पेट्रोलिंग की जाए। उन्होंने कन्टेन्टमेन्ट जोन में होम डिलीवरी व्यवस्था को सुचारू ढंग से संचालित करने के निर्देश दिए हैं।

श्री अवस्थी ने बताया कि अब तक 20 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक सकुशल वापस आये हैं। इनकी संख्या को देखते हुए प्रत्येक क्वारंटीन सेण्टर में इन्फ्रा रेड थर्मामीटर तथा पल्स आक्सीमीटर की व्यवस्था की गयी है। सभी प्रवासी श्रमिकों को 15 दिन के खाद्यान्न किट के साथ-साथ उन्हें नियमित तौर पर खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए उनका राशन कार्ड बनवाने के निर्देश हैं। होम क्वारंटीन के दौरान इन्हें 1000 रुपये का भरण पोषण भत्ता भी उपलब्ध कराया जायेगा।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में गठित निगरानी समितियों को सक्रिय रखा गया है। इन समितियों के सदस्यों से सीएम हेल्पलाइन के जरिये संवाद स्थापित करते हुए इनके सर्विलांस कार्य की जानकारी प्राप्त करने को कहा गया है। इसके लिये हर जिले में एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी को नामित करने के निर्देश है। यह अधिकारी अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव स्तर के होंगे जो जिलों में तैनात अधिकारियों से संवाद कायम करते हुए उनका मार्गदर्शन करेंगे।

श्री अवस्थी ने बताया कि ग्राम एवं मोहल्ला निगरानी समितियां निगरानी का कार्य सक्रियता से कर रही है। उन्होंने इन निगरानी समितियों से अपील किया कि होम क्वारंटीन किये गये लोगों के घर पर क्वारंटीन अवधि की तिथि सहित पोस्टर अवश्य लगाएं और क्वारंटीन किये गये लोगों का निर्धारित अवधि के लिए क्वारंटीन किया जाना सुनिश्चित कराएं। अब तक 87,141 निगरानी समिति के माध्यम से 69,78,009 घरों में रह रहे 3,49,20,368 लोगों से सम्पर्क किया गया है। उन्होंने बताया कि 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों में कोरोना संक्रमण दर नौ प्रतिशत से घटकर 6.5 प्रतिशत रह गई है।

Share it