Top

...और खाक हो गईं 43 जिंदगियां... कई मजदूर घायल, 17 की हालत नाजुक

...और खाक हो गईं 43 जिंदगियां... कई मजदूर घायल, 17 की हालत नाजुक

नई दिल्ली। दिल्ली के रानी झांसी रोड के निकट अनाज मंडी में एक इमारत की चौथी और पांचवीं मंजिल पर रविवार सुबह भीषण आग लग गई, जिसमें कम से कम 43 लोगों की दम घुटने से मौत हो गई और करीब 17 लोगों की हालत गंभीर है। जिस फैक्ट्री में आग लगी, उसमें स्कूल बैग, बोतल और अन्य तरह की चीजें जमा की गईं थी। यह फैक्ट्री आवासीय इलाके में चलाई जा रही थी। दूसरी ओर दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री के मालिक रेहान और प्रबंधक फुरकान को हिरासत में ले लिया है। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी है। सूत्रों ने बताया कि रेहान को भारतीय दंड़ संहिता की धारा 3०4 (गैर इरादतन हत्या) के तहत हिरासत में लिया गया है। झुलसे लोगों को राम मनोहर लाल लोहिया, हिंदू राव अस्पताल, सफदरजंग, लेडी हार्डिंग और लोक नायक जयप्रकाश अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। पुलिस के अनुसार आग लगने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है। मौके पर एनडीआरएफ, पुलिस और फोरेंसिक टीम पहुंच कर आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि ज्यादातर लोगों की मौत दम घुटने से हुई है। अग्निशमन अधिकारी के अनुसार घटना की जानकारी सुबह पांच बजकर 2० मिनट के करीब मिली और इसके बाद तुरंत दमकल विभाग की 3० से अधिक गाडिय़ों को मौके पर भेजा गया। आग पर पूरी तरह काबू पा लिया गया है। दूसरी ओर दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री के मालिक रेहान को हिरासत में ले है। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी है। सूत्रों ने बताया कि रेहान को भारतीय दंड़ संहिता की धारा 3०4 (गैर इरादतन हत्या) के तहत हिरासत में लिया गया है। यह केस अपराध शाखा को सौंपे जाने के कुछ समय बाद ही यह कार्रवाई की गई है। बताया जा रहा है कि जिस फैक्ट्री में बैग बनाए जा रहे थे, उसके लिए कोई लाइसेंस नहीं लिया गया था और दमकल विभाग से भी कोई औपचारिक अनुमति नहीं ली गई थी। इस हादसे का कारण पहले शार्ट सर्किट बताया जा रहा था, लेकिन व्यापक जांच के बाद ही असलियत सामने आएगी। इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने घटनास्थल का दौरा किया था और यह कहा था कि जो भी दोषी पाया जाएगा उसे बख्शा नहीं जाएगा। इस हादसे में 45 लोग मारे गए है और दिल्ली सरकार ने मामले की मजिस्टे्रट से जांच के आदेश दे दिए हैं। दिल्ली पुलिस ने हालांकि इससे पहले फैक्ट्री मालिक रेहान के पुत्र को हिरासत में ले लिया था, जिसके बाद रेहान की तलाश की जा रही थी। हादसे की जानकारी मिलने के बाद घटनास्थल पर पहुंचे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि घटना की पूरी जांच करवाई जायेगी और इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। श्री केजरीवाल ने सुबह घटनास्थल का दौरा कर मृतकों के परिजनों को दस लाख तथा घायलों के परिजनों को एक लाख रूपए सहायता राशि देने की घोषणा की। उन्होंने घटनास्थल का दौरा करने के बाद एलएनजेपी जाकर घायलों से मुलाकात की और चिकित्सकों से भी बातचीत कर घायलों का हालचाल जाना और कहा कि घायलों के इलाज का खर्च दिल्ली सरकार उठाएगी।


दो सौ गज की फैक्ट्री में काम कर रहे थे सौ मजदूर, रहना खाना सोना सब यहीं

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली के अनाज मंडी इलाके में जिस दो सौ गज की इमारत में आग लगी, उसमें करीब सौ मजदूर काम कर रहे थे। इमारत की हर एक मंजिल पर अवैध तरीके से अलग-अलग फैक्ट्रियां चल रही थीं। काम करने के साथ-साथ मजदूरों का रहना, खाना और सोना भी इन्हीं फैक्टरियां में होता था।

Share it
Top