Top

सेना को मिले 230 नए अफसर, कन्धों पर चमके सितारे, मित्र देशों के 20 कैडेट भी पास आउट हुए जिसमें 5 महिलाएं भी

सेना को मिले 230 नए अफसर, कन्धों पर चमके सितारे, मित्र देशों के 20 कैडेट भी पास आउट हुए जिसमें 5 महिलाएं भी

नई दिल्ली,। ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी (ओटीए) चेन्नई का परमेश्वरन ड्रिल स्क्वायर शनिवार को एक बार फिर पारम्परिक आउटिंग परेड के दौरान मार्शल संगीत की धुनों से गूंजा। सर्वश्रेष्ठ पारंपरिक सैन्य भव्यता के साथ हुई पासिंग आउट परेड में आज 230 अधिकारी कैडेट निकले। मित्र देशों के 20 कैडेट भी पास आउट हुए जिसमें 5 महिलाएं भी हैं।

​पासिंग आउट परेड में ​181 ​पुरुष ​​​कैडेट्स और 49 महिला ​​​कैडेट्स ​को कमीशन​ किया​ गया​। ​इसके अलावा​ मित्र देशों के 15 ​पुरुष ​और 05 महिला कैडेट्स ​भी ​पासिंग आउट परेड में ​शामिल हुए​। इसमें भूटान के 05 ​पुरुष ​कैडेट्स और 03 महिला कैडेट्स, मालदीव के 02 महिला कैडेट्स, अफगानिस्तान के 10 ​पुरुष ​कैडेट्स​​​ हैं​​।​ ​1963 में अपनी स्थापना के बाद से ​ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी ​​(​ओटीए​)​ सैन्य नेतृत्व का उद्गम स्थल रहा है। शॉर्ट सर्विस कमीशन ने वर्षों से युवाओं और महिलाओं को आकर्षित किया है, जो अकादमी के पोर्टल के माध्यम से वारियर्स, लीडर्स और प्रोटेक्टर ऑफ़ द नेशन के रूप में आगे बढ़े हैं।​ कोविड-19 की वजह से ​पासिंग आउट परेड में कैडेट्स के अभिभावकों को आमंत्रित नहीं किया गया था।

​पासिंग आउट परेड में​ ​​पश्चिमी कमान​ के जनरल कमांडिंग ऑफीसर लेफ्टिनेंट जनरल आरपी सिंह​ ने सलामी ली जिन्होंने ​एसीए वरुण गणपति सीपी को स्वर्ण पदक, एयूओ महादेव सिंह राठौर को रजत पदक और पाटिल धीरज पतंगराव को कांस्य पदक​ दिया​।​ अपने संबोधन के दौरान मुख्य अतिथि ने प्रशिक्षण अकादमी के कैडेटों और कर्मचारियों की सराहना की।​ उन्होंने पासिंग आउट कोर्स के कैडेट्स को हमेशा 'राष्ट्र के लिए निस्वार्थ सेवा के मूल मूल्यों' का पालन करने, सभी प्रयासों में उत्कृष्टता के लिए प्रयास करने और राष्ट्र की रक्षा में सफल होने का आह्वान किया।​​

पासिंग आउट परेड के बाद 'पिपिं​​ग सेरेमनी' आयोजित की गई, जिसमें ​पासिंग आउट कोर्स के कैडेट्स ने चमकते सितारों को अपने कंधों पर ले लिया।​ पहली बार ओटीए, चेन्नई के नए कमीशन अधिकारियों ने नई शुरुआत के प्रतीक ​के रूप में 'पहला कदम' पार किया।

Share it