Top

केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का बयान...सभी मुस्लिमों को पाक नहीं भेज पाने की भारी कीमत चुका रहा है भारत

केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का बयान...सभी मुस्लिमों को पाक नहीं भेज पाने की भारी कीमत चुका रहा है भारत

पटना। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह एक बार फिर से अपने बयान को लेकर चर्चा में आ गये हैं। उन्होंने कहा है कि आजादी के समय पाकिस्तान बनने के बाद सभी मुसलमानों को वहां ना भेज पाने की कीमत आज भारत चुका रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि हमारे पूर्वजों ने एक गलती कर दी।

गिरिराज सिंह ने बिहार के सीमांचल क्षेत्र के पूर्णिया जिले में यह बयान दिया, जहां मुस्लिम आबादी बड़ी संख्या में है। वह नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के पक्ष में प्रचार कर रहे थे। गिरिराज सिंह ने कहा है कि देश आजादी के समय पाकिस्तान बनने के बाद मुसलमानों को वहां नहीं भेज पाने और हिंदुओं को यहां नहीं ला पाने की कीमत चुका रहा है। कानून की जरूरत बताते हुए गिरिराज सिंह ने कहा, 'जब हमारे पूर्वज ब्रिटिश शासन से आजादी के लिए लड़ रहे थे, जिन्ना एक इस्लामी देश बनाने पर जोर दे रहे थे। हालांकि, हमारे पूर्वजों ने एक गलती कर दी। अगर उन्होंने हमारे सभी मुस्लिम भाइयों को पाकिस्तान भेज दिया होता और हिंदुओं को यहां ले आए होते, तो ऐसे कानून (सीएए) की जरूरत हीं नहीं होती। यह नहीं हुआ और हमने इसके लिए भारी कीमत चुकाई है।' आपको बता दें कि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक उत्पीडऩ का सामना करने वाले गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता देने के प्रावधान वाले सीएए के लागू होने के बाद से बड़ा विवाद खड़ा हो गया है और देशभर में इसके खिलाफ प्रदर्शन चल रहे हैं। लोगों ने आशंका जताई है कि इस कानून को लागू करने के बाद देशभर में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) लागू की जाएगी। पहले एक समय देशभर में एनआरसी होने का दावा करने वाली नरेंद्र मोदी सरकार ने अब इस योजना को लगता है कि ठंडे बस्ते में डाल दिया है। गिरिराज सिंह के इस बयान पर इस बार एनडीए की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) ने भी असहमति जताई है। बिहार में निकलने वाली 'बिहार प्रथम-बिहारी प्रथम' यात्रा की शुरुआत करने वाले एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान ने गिरिराज सिंह के बयान पर कड़ा ऐतराज जताया। चिराग पासवान ने कहा कि बीजेपी नेताओं के विभाजनकारी बयानों से गठबंधन को दिल्ली चुनाव में नुकसान उठाना पड़ा था।

Share it