Top

दारूल उलूम में दिल्ली के छात्र नेताओं ने दी दस्तक, जमकर हुआ विरोध प्रदर्शन ....देवबंद पहुंचे जेएनयू और जामिया के छात्र-छात्राएं

दारूल उलूम में दिल्ली के छात्र नेताओं ने दी दस्तक, जमकर हुआ विरोध प्रदर्शन ....देवबंद पहुंचे जेएनयू और जामिया के छात्र-छात्राएं

देवबंद। सीएए और एनआरसी के खिलाफ रविवार को देवबंद के दारूल उलूम क्षेत्र में ईदगाह पार्क मैदान में मुस्लिम नौजवानों और छात्राओं का प्रदर्शन और सभा हुई, जिसमें जेएनयू और जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्र नेताओं ने जमीयत उलमा-ए-हिंद (महमूद मदनी गुट) के नेताओं के स्वर में स्वर मिलाते हुए एलान किया कि संविधान विरोधी इस कानून की वापसी तक संघर्ष जारी रहेगा। इस दौरान जमीअत उलमा-ए-हिंद व वूमैन एक्शन कमेटी के संयुक्त तत्वावधान में जोरदार धरना प्रदर्शन किया गया और केंद्र सरकार से इस कानून को वापस लिए जाने तथा देश में एनआरसी लागू नहीं किए जाने की पुरजोर मांग की गई और यह आह्वान किया गया कि जब तक इस कानून को वापस नहीं लिया जाएगा, तब तक इसी तरीके से धरना-प्रदर्शन जारी रहेगा। प्रदर्शन और जलसे की अध्यक्षता कर रहे कारी अफ्फान मंसूरपुरी ने कहा कि बहुमत के सहारे भले ही सरकार ने इस काले कानून को पारित करा लिया हो, लेकिन सरकार को यह भी अच्छी तरह समझ लेना चाहिए कि देश की जनता का बहुमत इस कानून के खिलाफ है। प्रदर्शन को संबोधित करते हुए जमीयत उलमाएं हिन्द के जिला महासचिव जहीन अहमद ने कहा कि जमीयत के जिम्मेदार जिस तरीके से इस आंदोलन को चला रहे हैं, वह लगातार जारी रहेगा और इसमें अगर किसी भी बदलाव की जरूरत होगी तो उसके बारे में बताया जाएगा। जामिया मिल्लिया के फव्वाज जावेद खान ने कहा कि जामिया हिंसा और वहां के छात्र-छात्राओं पर जितनी पुलिस ने बर्बरता की, उससे भी छात्र झुके नहीं है। उन्होंने कहा कि शाहीन बाग आंदोलन को साजिश के तहत समाप्त किये जाने का प्रयास किया जा रहा है। जेएनयू नई दिल्ली की पीएचडी की छात्रा शायमा ने कहा कि छात्राओं ने जो आंदोलन शुरू किया वो देश की आवाज बन चुका है तथा महिलाऐं और छात्र-छात्राऐं तब तक प्रर्दशन जारी रखेंगे, जब तक कि यह कानून वापिस नही हो जाता है। एसपी देहात विद्यासागर मिश्र की अगुवाई में भारी संख्या में पुलिस और अद्र्धसैनिक बलों की पूरे दारूल उलूम क्षेत्र में तैनाती रही। एसपी देहात ने बताया कि पूरा आयोजन शांति पूर्वक संपन्न हो गया।

Share it
Top