Top

महाराष्ट्र में पानी सप्लाई का मॉडल बढ़िया, पूरा देश में हो ऐसी व्यवस्था : पासवान

महाराष्ट्र में पानी सप्लाई का मॉडल बढ़िया, पूरा देश में हो ऐसी व्यवस्था : पासवान


- -कहा पानी की गुणवत्ता की जांच करने वाली एजेंसी बीआईएस विश्वमानकों पर खरी

- - पानी पर राजनीति ठीक नहीं, दिल्ली के लोगों को मिले पीने का साफ पानी

नई दिल्ली। देशभर में लोगों को साफ पीने का पानी मुहैया कराने के मकसद से ब्यूरो आफ स्टैंडर्स (बीआईएस) पाइप लाइनों के पानी की गुणवत्ता का अध्ययन करेगा। इस सिलसिले में एक कार्यशाला का भी आयोजन किया गया जिसका उद्घाटन खाद्य व आपूर्ति मंत्री राम विलास पासवान ने किया। इस मौके पर राम विलास पासवान ने कहा कि पानी की सप्लाई और गुणवत्ता के मामले में महाराष्ट्र का मॉडल सबसे अच्छा है। लिहाजा पूरे देश में इसी तरह का मॉडल अपनाया जाना चाहिए। यहा पानी के सभी मानकों का पालन किया जा रहा है और लोगों तक पीने का साफ पानी मुहैया कराया जा रहा है।

दिल्ली के पानी के सैंपल फेल होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बीआईएस गुणवत्ता परखने के मामले में विश्व स्वास्थ्य संगठन की जांच एजेंसियों के बराबर है। इसलिए इस संस्था पर सवाल उठाना सही नहीं है। दिल्ली में पीने के पानी के सैंपल फेल पाए गए थे, इसलिए फेल किए गए। इस संबंध में अगर दिल्ली सरकार को संदेह है तो, बीआईएस और दिल्ली जल बोर्ड के संयुक्त टीम में उनके हिसाब से ही पानी के सैंपल उठाए जाएं। उन्होंने कहा कि दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारी तो स्वयं मान रहे हैं कि यमुना के पानी में ऑरगेनिक और कैमिकल प्रदूषण बहुत ज्यादा है, लिहाजा इस पानी को पूरा साफ कर पाना मुमकिन नहीं है। लेकिन पानी जब एनडीएमसी के इलाके में सप्लाई होता है तो शुद्ध होता है और यमुना पार के क्षेत्रों में लोग पानी उबाल उबाल कर पीना पड़ता है तो इतना अंतर करना ठीक नहीं है। पीने के पानी को राजनीति से अलग रखकर सभी लोगों को पीने का साफ पानी मुहैया करना ही सरकार का काम होता है जो किसी भी सरकार को करना चाहिए।


Share it
Top