Top

नौ साल की बच्ची भी डरती है अकेले स्कूल जाने से: प्रियंका

नौ साल की बच्ची भी डरती है अकेले स्कूल जाने से: प्रियंका

उन्नाव। उत्तर प्रदेश सरकार को उन्नाव में बलात्कार पीडिता की मौत का जिम्मेदार ठहराते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि महिला असुरक्षा को लेकर राज्य में हालात इस कदर भयावह है कि यहां नौ साल की बच्ची भी अकेले स्कूल जाने से डरती है। जिले के बिहार क्षेत्र में शनिवार को बलात्कार पीडिता के परिजनों को न्याय दिलाने का भरोसा दिलाने हिंदूनगर भाटन खेड़ा गांव पहुंची प्रियंका ने पत्रकारों से कहा 'सरकार कहती है अपराधियों के लिये प्रदेश में कोई जगह नहीं है। अपराधी मुक्त प्रदेश का दावा करती है, लेकिन सच्चाई यह है कि यूपी में महिलाओं के लिये कोई स्थान नहीं है। श्रीमती वाड्रा दोपहर साढ़े 12 बजे के करीब पीडि़ता के परिजनों से मिलने पहुंची थी। उन्होने पीडि़ता की भाभी से बंद कमरे में करीब आधे घंटे तक बात की। बाहर निकल कर मीडिया के सवालों पर कहा कि आज जो हालात हैं, उसमें 9 साल की बच्ची भी स्कूल जाने से डरती है। प्रदेश में अपराधी बेखौफ हैं। अपराधियों के दिल में पुलिस का भय नहीं है। पीडि़ता का परिवार एक साल से न्याय की लड़ाई लड़ रहा था, पिता के साथ आरोपी मारपीट करते रहे, बच्चों व महिलाओं को डराते धमकाते रहे। फसल तक जला दी, लेकिन समय रहते प्रशासन ने कार्यवाही नहीं की। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रशासन यदि इस मामले पर गंभीर रूख अपनाता तो इस तरह की घटनाएं रोंकी जा सकती थी। प्रदेश में एक के बाद एक ऐसी घटनाएं हो रही हैं। प्रशासन को सीरियस होना पड़ेगा तभी इस तरह की घटनाएं रोंकी जा सकती है। उन्होंने पीडि़त परिवार को न्याय दिलाने के साथ ही कानूनी लड़ाई में मदद का भरोसा दिलाया है। श्रीमती वाड्रा ने कहा कि राज्य सरकार जवाब दे कि बार बार सुरक्षा की मांग करने वाली युवती को सुरक्षा क्यों नहीं दी गई। नतीजा यह हुआ कि युवती को जला कर मार दिया गया। उन्होंनें परिवार के सभी सदस्यों ने अलग अलग बात की। उनके साथ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और उन्नाव से पूर्व कांग्रेस सांसद अनु टंडन भी थीं। उन्होने आरोप लगाया कि इस सरकार में अपराध और अपराधियों को संरक्षण दिया जा रहा है।

Share it
Top