Top

जम्मू-कश्मीर: निजी स्कूलों में भी पहुंचने लगे बच्चे, घाटी में स्थिति पूरी तरह से सामान्य

जम्मू-कश्मीर: निजी स्कूलों में भी पहुंचने लगे बच्चे, घाटी में स्थिति पूरी तरह से सामान्य


श्रीनगऱ। कश्मीर घाटी में देर से ही सही लेकिन अब सामान्य जनजीवन पटरी पर पूरी तरह से लौट आया है। सामान्य जनजीवन पटरी पर लौटना यह दर्शाता है कि जम्मू कश्मीर से धारा 370 व 35ए हटाए जाने के बाद सरकार द्वारा राज्य में पाबंदियां लगाने तथा राजनीतिक नेताओं की नज़रबंदी का फैसला एकदम सही था। 5 अगस्त से अब तक लगभग साढ़े तीन महीने बाद कश्मीर घाटी में सभी गतिविधियां पहले की तरह सामान्य हो गई हैं। इंटरनेट को बहुत ही जल्द प्रशासन घाटी में सशर्त ब्राडबैंड सेवा शुरू करने जा रहा है।

कश्मीर घाटी में अब सरकारी के साथ ही निजी स्कूलों की गतिविधियां भी शुरू हो गई हैं। मंगलवार से बच्चों ने निजी स्कूलों में भी आना शुरू कर दिया। हालांकि प्रशासन ने बच्चों को वर्दी की बजाय सामान्य कपड़ों में स्कूलों में आने के निर्देश जारी किए हैं। इस दौरान पूरी कश्मीर घाटी में किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। घाटी में अब दुकानें दिनभर खुल रही हैं। हालात सामान्य होते देख सबसे ज्यादा व्यापारी खुश हैं, क्योंकि बंद के दौरान उनके व्यापार को काफी नुकसान झेलना पड़ा है।

बुधवार को भी कश्मीर घाटी में शांति है। सामान्य जनजीवन तेज़ी से पटरी पर दौड़ रहा है। सरकारी के साथ ही निजी स्कूलों की तरफ जाते बच्चे नजर आ रहे हैं। सड़कों पर स्कूलों के पीले वाहनों के साथ सभी प्रकार के वाहन दौड़ रहे हैं। स्कूलों में पांचवी से नौवीं व ग्याहवीं की परीक्षाएं ली जा रही हैं। निजी व सरकारी कार्यालयों में कर्मचारियों की हाजिरी लगभग पूरी है। रेहड़ी-फड़ी वाले गली-मोहल्लों में अपना सामान लेकर निकल पड़े हैं। लोग रोजाना के कामों के लिए अपने घरों से बाहर निकल चुके हैं। सेब की मंडिया लगी हुई हैं और ट्रकों में सेब भरकर दूसरे राज्यों में भेजा जा रहा है। कश्मीर घाटी में लैंडलाइन फोन सेवा तथा पोस्ट पेड मोबाइल सेवा सुचारू रूप से जारी है जबकि पूरे जम्मू कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट सेवा एहतियात के तौर पर बंद रखी गई है, जिसे सशर्त बहाल करने के प्रयास प्रशासन ने शुरू कर दिए हैं। इस सब के बावजूद घाटी के सभी संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती बरकरार है।


Share it