Top

लाइफ स्टाइल - Page 1

  • 06 अप्रैल-भारतीय एवं विश्व इतिहास में 06 अप्रैल की प्रमुख घटनाएं

    नयी दिल्ली- भारतीय एवं विश्व इतिहास में 06 अप्रैल की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं: 1672- फ्रांस ने नीदरलैंड के खिलाफ युद्ध की घोषणा की। 1896 - पहले आधुनिक ओलंपिक खेलों की यूनान के एथेंस में शुरूआत हुई। 1909 - अमेरिकी नागरिक राबर्ट पियेरी और मैथ्यू हैंसन ने पहली बार उत्तरी ध्रुव पर पहुंचने का ...

  • 05 अप्रैल: भारतीय एवं विश्व इतिहास में 05 अप्रैल की प्रमुख घटनाएं

    नयी दिल्ली । भारतीय एवं विश्व इतिहास में 05 अप्रैल की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार है:1930 - महात्मा गांधी नमक कानून तोड़ने के लिए अपने अनुयायियों के साथ दांडी पहुंचे। 1940 - महात्मा गांधी के करीबी मित्र एवं समाज सुधारक सी एफ एन्ड्रयूज का निधन । 1949 - भारत स्काउट एण्ड गाइड की स्थापना हुई। 1955 -...

  • 04 अप्रैल-भारतीय एवं विश्व इतिहास में 04 अप्रैल की प्रमुख घटनाएं

    नयी दिल्ली- भारतीय एवं विश्व इतिहास में 04 अप्रैल की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं: 1716 - रूस और प्रशिया की सेनाओं ने उत्तरी जर्मनी के विस्मार पर कब्जा किया। 1818 - अमेरिकी संसद में राष्ट्रीय ध्वज में लाल रंग की 13 पट्टियां और 20 सितारे रखने का फैसला किया गया। 1858 - ह्ययूज राेज के नेतृत्व में...

  • 03 अप्रैल: भारतीय एवं विश्व इतिहास में 03 अप्रैल की प्रमुख घटनाएं

    नयी दिल्ली- भारतीय एवं विश्व इतिहास में 03 अप्रैल की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार है.. 1680 - मराठा शासक शिवाजी का महाराष्ट्र के रायगढ़ किले में निधन। 1856 - यूनान के रोडोस द्वीप समूह में चर्च में हुए धमाके में चार हजार लोगों की मौत। 1903 - समाज सुधारक एवं स्वतंत्रता सेनानी कमलादेवी चट्टोपाध्याय का...

  • बाल कथा: बंटी और बिच्छू

    'बेटा, टिफिन ले कर स्कूल जाओ। मैंने तैयार कर दिया है।' मम्मी ने आवाज दी मगर बंटी टिफिन ले जाने को तैयार नहीं था। उसने मम्मी से दस रूपए मांगे मगर जब मम्मी ने देने से मना कर दिया तो स्कूल न जाने की जिद्द करने लगा। मम्मी ने हार कर बंटी को दस रूपए दिए जिसे ले कर वह स्कूल चला गया। दोपहर में खाने की...

  • बाल कथा: इनाम में मिला राज्य

    घटना सोलहवीं सदी की है। बिहार के सिंहभूम की भुइयां जाति के लोग तरह-तरह के घोड़े पालते थे। राजा भी घोड़ों के न सिर्फ शौकीन होते थे बल्कि उनका कारोबार भी करते थे। एक बार एक घोड़ों का व्यापारी राजा को एक स्वस्थ-सुंदर घोड़ा बेच गया। घोड़ा देखने में जितना स्वस्थ व सुंदर था, उतना ही बिगड़ैल भी था। राजा...

  • 02 अप्रैल-भारतीय एवं विश्व इतिहास में दो अप्रैल की प्रमुख घटनाएँ

    नयी दिल्ली - भारतीय एवं विश्व इतिहास में दो अप्रैल की प्रमुख घटनाएँ इस प्रकार हैं... 1559- इटली के जेनोआ क्षेत्र से यहूदियों को निकाला गया। 1679- मुगल शासक अकबर ने जजिया कर समाप्त किया। 1720 - पेशवा बालाजी विश्वनाथ का निधन। 1849- ब्रिटिश पंजाब की स्थापना हुई। 1891- गोवा के प्रसिद्ध स्वतंत्रता...

  • बढ़ते बच्चे जब जाना चाहें बाहर

    घर से बाहर घूमना सभी को अच्छा लगता है चाहे छोटा बच्चा हो या बड़ी आयु का। छोटे बच्चों को बाहर की दुनिया रंगीली और शोर गुल वाली लगती है। अन्दर घर पर उन्हें बंधा-बंधा सा लगता है। बड़ों को तो बहुत बार मजबूरी वश घर से बाहर रहना पड़ता है पर उन्हें यह चिंता नहीं होती कि परिवार से अनुमति लेकर ही बाहर जाना ...

  • 31 मार्च: भारतीय एवं विश्व इतिहास में 31 मार्च की प्रमुख घटनाएँ

    नयी दिल्ली - भारतीय एवं विश्व इतिहास में 31 मार्च की प्रमुख घटनाएँ इस प्रकार हैं... 1727 - महान भौतिकशास्त्री आइजैक न्यूटन का 84 वर्ष की आयु में लंदन में निधन । 1774 - भारत में पहला डाकघर खुला। 1867 - मुंबई में प्रार्थना समाज की स्थापना हुई। 1870 - अमेरिका में पहली बार किसी अश्वेत नागरिक ने वोट...

  • 30 मार्च: भारत और विश्‍व इतिहास में 30 मार्च की प्रमुख घटनाएं

    नयी दिल्ली । भारत और विश्‍व इतिहास में 30 मार्च की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं: 1822- फ्लोरिडा अमेरिकी गणराज्य में शामिल हुआ। 1842- बेहोशी की दवा के रूप में ईथर का पहली बार इस्तेमाल हुआ। 1856- सोवियत संघ (अब रूस) ने पेरिस शांति समझौते पर हस्ताक्षर कर क्रीमिया युद्ध की समाप्ति की घोषणा की। 1858-...

  • पर्यटन/ तीर्थस्थल: कलियुग का पवित्र धाम है जगन्नाथपुरी

    हिंदू धर्म की पौराणिक मान्यताओं में चारों धामों को एक युग का प्रतीक माना जाता है। इसी प्रकार कलियुग का पवित्र धाम जगन्नाथ पुरी माना गया है। यह भारत के पूर्व में उड़ीसा राज्य में स्थित है जिसका पुरातन नाम पुरुषोत्तम पुरी, नीलांचल, शंख और श्रीक्षेत्र भी है। उड़ीसा या उत्कल क्षेत्र के प्रमुख देव भगवान...

  • अध्यात्म: परमात्मा के साथ संबंध

    'त्वमेव माता च पिता त्वमेव', 'त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव'। 'त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव,' 'त्वमेव सर्वम् मम देवदेव'।। सरल-सा अर्थ है, 'हे भगवान्! तुम्हीं माता हो, तुम्हीं पिता, तुम्हीं बंधु, तुम्हीं सखा। तुम्हीं विद्या हो, तुम्हीं द्रव्य, तुम्हीं सब कुछ हो। मेरे देवता हो।' बचपन से प्राय: ...

Share it