Top

Read latest updates about "लेडीज स्पेशल" - Page 1

  • गर्दन का सौंदर्य भी निखारें

    चेहरे को सुंदर बनाने में गर्दन और कंधों का विशेष महत्त्व है। सुडौल व तने हुए कंधे व सुराहीदार गर्दन चेहरे को और आकर्षक बना देते हैं। अगर गर्दन में झुर्रियां पडऩे लगे या गर्दन मोटी दिखायी देने लगे तो सारी सुंदरता खत्म हो जाती है भले ही चेहरा कितना भी सुन्दर क्यों न हो। चेहरे की तरह गर्दन भी धूल,...

  • विवाह से पूर्व त्वचा की देखभाल

    विवाह से पूर्व त्वचा की देखभाल करना बहुत आवश्यक है। त्वचा की देखभाल सिर्फ उस पर लगाए जाने वाले सौंदर्य प्रसाधनों से ही नहीं की जा सकती। इसके लिए उचित खानपान और कुछ प्राकृतिक साधनों का भी प्रयोग किया जाना चाहिए। त्वचा की देखभाल के लिए कुछ जरूरी टिप्स यहां दिये जा रहे हैं:- रूखी त्वचा: रूखी त्वचा को...

  • बेटियों को कर्तव्य के प्रति जिम्मेदार बनाएं

    पुष्पा मेरी परिचिता की लाडली बेटी है। उसे घूमने फिरने, फिल्में देखने का काफी शौक है। वह नौकरी भी करती है। एक बार मेरी परिचिता की तबियत ठीक नहीं थी। अपने सारे घरेलू कार्य निबटा कर रात 8.30 बजे मैं उसके घर पहुंची। परिचिता का बदन बुखार से तप रहा था, फिर भी परिचिता सब्जी काट रही थी। मैंने उससे सब्जी...

  • आप भी पा सकती हैं स्वस्थ सुडौल एडिय़ां

    हम अपने चेहरे, बालों और हाथों पर जितना ध्यान देते है, उतना अपने पैरों की देखभाल पर नहीं देते। एडिय़ां, शरीर के सबसे नीचे स्थित होती हैं। हम यह मानकर कि वहां किसी की नजर नहीं पड़ेगी, सर्वाधिक उपेक्षा करते हैं। जो महिलाएं अपने पैरों और एडिय़ों की समुचित देखभाल करती हैं, उन्हें साफ-सुथरा और चिकना रखती...

  • ऊन की खरीदारी में बरतें समझदारी

    मौसम में ठंडक आते ही गर्म वस्त्रों की याद आनी शुरू हो जाती है। जिन स्त्रियों को स्वेटर घर पर बनाने का शौक होता है, वे बाजार में निकल पड़ती है रंग बिरंगी और मन को लुभाने वाली ऊन लेने के लिए। ऊन खरीदते ही मन में डिज़ाइन ध्यान आने लगते हैं। वैसे घर के बने स्वेटर की अपनी ही शान होती है। जिस रंग और नाप...

  • साडिय़ों की उचित देखभाल

    भारतीय संस्कृति में स्त्रियों के परिधान के रूप में साड़ी का विशेष महत्त्व है। स्त्रियों के व्यक्तित्व को निखारने में साड़ी का योगदान महत्त्वपूर्ण है। इतने महत्त्वपूर्ण परिधान को कैसे पहना और संभाला जाये, इसकी जानकारी होना बहुत आवश्यक है। यदि साड़ी की साज संभाल सही ढंग से नहीं की जाएगी तो नई साड़ी...

  • अपने आपको पति के अनुरूप ढालिये

    'तुम यह क्या हाल बनाये रहती हो?' एक शाम ऑफिस से लौटे सुकांत ने अपनी पत्नी रचना को टोका था। 'मेरे हाल में क्या बुराई है?' रचना ने प्रश्नसूचक नजरों से पति की ओर देखा था। तुम्हें कोई बुराई नजर नहीं आ रही? सुकांत रचना को घूरते हुए बोला, 'तुम्हारे कपड़े देखो, कितनी सलवटें पड़ी हैं। बाल बिखरे और उलझे...

  • सर्दियों में आपका वार्डरोब

    आधुनिक समय में फैशन की दौड़ में सभी युवक-युवतियां आगे ही रहना चाहते हैं। इस फैशन की दौड़ में कोई भी पीछे नहीं रहना चाहता। पुराने समय में सर्दियों में पहनने के लिए बस मोटे सूट, कोट, शाल और स्वेटर ही होते थे। आधुनिक समय में इन सब वस्त्रों के साथ-साथ नए फैशन की मांग के अनुसार भी वस्त्र पहने जाते हैं...

  • दस दमदार उपयोगी किचन टिप्स

    - समोसे के लिए मैदा गूंथते समय मैदे में एक चम्मच सिरका डालें। समोसे कुरकुरे बनेंगे और तेल भी कम लगेगा। - करेले की सब्जी में थोड़ा सा गुड़ डाल देने से कड़वाहट कम हो जाती है और स्वाद बढ़ जाता है। - चावल बनाने से पहले उन्हें यदि नमक मिले पानी में भिगो कर रखा जाए तो वे सफेद बनते हैं तथा टूटने से बच...

  • बालों की सुंदरता, मजबूती और स्वास्थ्य का रखें ख्याल

    सुंदर, मजबूत और स्वस्थ बाल हर औरत का गहना हैं और महिला के व्यक्तित्व को निखारने में मदद करते हैं। कुछ महिलाओं को वंशानुगत स्वस्थ, मजबूत और सुंदर बाल मिलते हैं, कुछ लोग बचपन से ध्यान रखकर बालों को सुंदर बनाकर रखते हैं। अगर वंशानुगत बालों का भी सही ध्यान नहीं रखा जाए तो वे बर्बाद और खराब होने में...

  • पत्नी नहीं कर पाती बेवफाई

    हमारे देश में दो बातें मुख्य हैं। पहला, हमारे देश में सेक्स फ्री नहीं है। मतलब यह है कि पुरूष चाहे जिस औरत के साथ शारीरिक सम्बन्ध नहीं जोड़ सकता। दूसरा, हमारे यहां पति पत्नी के बीच स्थापित शारीरिक सम्बन्ध ही जायज माने जाते हैं। इस बात से सीधा सा अर्थ यह निकलता है कि पति और पत्नी दोनों को एक दूसरे...

Share it
Top