Top

आपकी त्वचा के सौंदर्य को बढ़ाते हैं विटामिन

आपकी त्वचा के सौंदर्य को बढ़ाते हैं विटामिन

पिछले कुछ समय से महिलाओं में अपनी त्वचा की देखभाल के प्रति जो जागरूकता देखने को मिली है, वह पहले महिलाओं में नहीं थी। अपने सौंदर्य के प्रति तो महिलाएं सतर्कता बरतती थी पर शायद त्वचा की देखभाल की जानकारी के अभाव में अपनी त्वचा के निखार के लिए उतनी प्रयत्नशील नहीं थी जितनी अब हैं। इस जागरूकता का श्रेय जाता है त्वचा विशेषज्ञों द्वारा किए गए शोधों को।

त्वचा विशेषज्ञों का मानना है कि त्वचा पर सबसे अधिक प्रभाव डालते हैं विटामिन। विटामिनों के अभाव में त्वचा बेजान, चमकहीन, रूखी, धब्बेदार, तैलीय हो सकती है, इसलिए स्वस्थ व सुन्दर त्वचा के लिए विभिन्न प्रकार के विटामिन विशेषकर विटामिन ए, ई,सी और डी आवश्यक हैं।

विटामिन ई व सी तो एंटी आक्सीडेंट का साधारण रूप हैं जो त्वचा को फ्री रेडिकल्स से सुरक्षा देते हैं।

फ्री रेडिकल्स प्रदूषण, धुएं, सूर्य की किरणों के माध्मय से त्वचा सेल्स को हानि पहुंचाते हैं और त्वचा झुर्रियों का शिकार बनती है। विटामिन ए सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों से त्वचा को सुरक्षा देता है और विटामिन सी त्वचा के घावों को भरने में मदद करता है।

कुछ शोधों से यह भी सामने आया है कि विटामिन ए और सी तो त्वचा की परतों में प्रवेश कर, जख्म या जलने के कारण त्वचा टिश्यू को हुए नुकसान में सुधार लाने में मदद करते हैं।

विटामिन ए की कमी व अधिकता दोनों त्वचा के रूखेपन का कारण बन सकती है। विटामिन ए का ही रूप रेटिनायडस का प्रयोग मुंहासों, झुर्रियां दूर करने, सूर्य की अल्ट्रावायलट किरणों द्वारा पहुंची क्षति को दूर करने में किया जाता है। कई क्रीमों व स्किन केयर प्रोडक्ट्स में विटामिन ए का प्रयोग किया जाता है।

विटामिन सी त्वचा के जख्मों को भरने में व स्कर्वी रोग से सुरक्षा देता है। विटामिन सी फ्री रेडिकल्स से सुरक्षा देता है। हमारी त्वचा पर फ्री रेडिकल्स हमला कर त्वचा के कोलाजन को व लचीलेपन को नष्ट कर देता है। विटामिन सी-कोलाजन की रक्षा करता है।

विटामिन सी बहुत जल्दी नष्ट हो जाता है। हवा और प्रकाश के प्रभाव में आकर विटामिन सी बहुत जल्द आक्सीडाइज हो जाता है। इसीलिए इसकी पैकिंग भी महत्त्वपूर्ण होती है। इसकी पैकिंग इस प्रकार की मेटल टयूब में की जाती है जिसमें प्रकाश व हवा प्रवेश न करें।

विटामिन सी उम्र के प्रभाव को कम करने में सहायक है। विटामिन सी के अच्छे परिणाम पाने के लिए इसका प्रयोग अल्फा हाइड्रोक्सी एसिड के साथ किया जाता है। यह गुण में विटामिन सी के समान ही होता है।

अगर आपकी त्वचा रूखी है तो विटामिन सी युक्त क्रीम सुबह लगाएं और अल्फा हाइड्रोक्सी एसिड युक्त क्र ीम रात को लगाएं और अगर आपकी त्वचा तैलीय या मिश्रित है तो इसके विपरीत करें अर्थात सुबह ए एच ए युक्त क्र ीम व रात को विटामिन सी युक्त क्रीम लगाएं।

विटामिन डी सूरज की किरणों से हमारे शरीर को प्राप्त होता है। विटामिन डी एंटी आक्सीडेंट है और त्वचा की पिगमेंटेंशन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है पर विशेषज्ञों का मानना है कि इसका अधिक प्रयोग त्वचा के लिए हानिकारक हो सकता है। विटामिन ई का प्रयोग कई तरह के सौंदर्य प्रसाधनों में किया जाता है। विटामिन ई युक्त लिपस्टिक, क्रीम, माश्चराइजर ऑयल बाजार में उपलब्ध हैं। यह त्वचा पर सुरक्षा परत की तरह कार्य करते हैं। विटामिन ई स्टेच मार्क्स को हल्का करता है।

इस तरह विटामिन हमारी त्वचा का बाहरी पोषण तो करते ही हैं, साथ ही आंतरिक पोषण भी देते हैं। अच्छी त्वचा के लिए संतुलित आहार व विटामिन ए, सी, ई युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन आवश्यक है। विटामिन ए व सी त्वचा के कोलाजन के निर्माण में सहायक बनते हैं व त्वचा पर पडऩे वाले बढ़ती उम्र के प्रभाव को भी कम करते हैं।

- सोनी मल्होत्रा

Share it
Top