Top

चुस्त, छरहरी काया पाइये

चुस्त, छरहरी काया पाइये

पतला-छरहरा बदन, पतली बल खाती कमर, लम्बी-लम्बी अंगुलियों वाली युवतियों की ओर भला कौन-सा ऐसा पुरुष होगा जो आकर्षित नहीं होगा? आज की सौन्दर्य कांशस नवयुवतियां पतली, छरहरी बनने के लिए डायटिंग, एरोबिक्स और न जाने क्या-क्या करती नजर आती हैं?

यूं तो औरतें उम्र भर अपनी फिगर के प्रति कांशस रहती हैं लेकिन फिगर के प्रति सर्वाधिक चिंता टीन एजर्स में ही नजर आती है। इस उम्र में उन्हें अपना लुक, अपना स्टाइल और अपनी फिगर व फेस इतना अधिक महत्त्वपूर्ण लगता है कि वे जरा-जरा-सी बात को लेकर टेंशन में आ जाती हैं।

वास्तव में आज के समय में मीडिया की वजह से लोगों में अपने शरीर के प्रति जागरूकता आयी है। सौन्दर्य प्रतियोगिताओं तथा फैशन शो आदि के आधार पर ही आज की नवयुवतियां खूबसूरती का अपना-अपना मानदंड बना बैठती हैं। माडलों के फिगर के समान अपनी फिगर को बनाने के लिए नवयुवतियां कुछ भी करने को तैयार देखी जा सकती हैं। अगर आप भी निम्नांकित सुझावों पर अमल करेंगी तो अवश्य ही एक शानदार फिगर की मलिका बन कर मोहक स्वरूप को पा सकती हैं।

- देर रात में न सोएं तथा सुबह अधिक देर तक न सोएं क्योंकि अधिक सोने से मोटापा तो बढ़ता ही है, साथ ही शरीर भी बेडौल होने लगता है।

- दिन में कम से कम आठ से दस गिलास तक पानी अवश्य पियें। अधिक पानी पीने से शरीर में पानी का संतुलन बना रहता है साथ ही पेशाब की अधिकता के कारण मोटापा कारक तत्व पेशाब के साथ-साथ निकलते रहते हैं।

- घरेलू कामकाज को नौकरानी पर न छोड़कर स्वयं करिये। झाडू पोंछा आदि काम करते रहने से अतिरिक्त चर्बी तो घटती ही है, साथ ही शरीर भी सही शेप में रहता है।

- मन के अन्दर से सैक्सी कल्पनाओं को यथासंभव हटाने का प्रयत्न करें क्योंकि इस भावना से एक अतिरिक्त हार्मोन का रिसाव होता है जो चर्बी को बढ़ाकर शरीर के मोटापे को बढ़ा देता है। इसी कारण विवाह के बाद प्राय: औरतें मोटी होने लगती हैं।

- शाम को 6 बजे के बाद गरिष्ठ भोजन न करें तथा सोने से पहले चाय, कॉफी या चाकलेट आदि न लें। गरम दूध पीने से अच्छी नींद आती है।

- कभी भी पेट के बल न सोएं। इससे स्तनों के आकार पर असर पड़ता है, साथ ही रक्तसंचार भी सही नहीं रहता। दायी-बांयी करवट या सीधा (पीठ के बल) सोना फिगर के लिए हितकर होता है।

- एक जगह बैठकर अगर आपको लगातार काम करना पड़ता हो, तो कुछ-कुछ देर के बाद समय निकालकर अवश्य ही चक्कर लगा लें। मांस-पेशियों को कुछ देर के लिए ढीला अवश्य छोड़ दें।

- सुबह का नाश्ता अवश्य करें तथा रात के भोजन के बाद थोड़ी देर नियमित रूप से अवश्य ही टहलें। भूलकर भी भरपेट मत खायें। आवश्यकता पडऩे पर 4-5 बार थोड़ा-थोड़ा खाया जा सकता है।

- टीनएज वह दौर होता है, जिसमें लम्बी उम्र तक स्वास्थ्य तथा कार्यक्षमता को बनाये रखने के लिए ऊर्जा को संचित करना पड़ता है इसलिए खान-पान व सोच-विचार को स्वच्छ बनाकर रखना चाहिए।

- अधिक देर तक फोन करना या फोन सुनना भी फिगर के लिए घातक होता है। रिसीवर को हमेशा हाथ से ही पकड़ें। रिसीवर को कंधे के बीच दबाकर सुनने से कंधों पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है। इससे कंधे बेडौल भी हो सकते हैं।

- जम्हाई लेते समय मुंह बन्द करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए बल्कि पूरा मुंह खोलकर जम्हाई लेना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है।

- सुबह उठकर सबसे पहले आईने के सामने खड़े होकर कुछ समय तक शांत मन से धीरे-धीरे गहरी सांस लें। इससे शरीर का रक्तप्रवाह सुचारू हो जाता है और तनाव दूर हो जाता है।

- फाइन फिगर के लिए आहार-व्यवहार के साथ ही पहनावे का भी पूरा-पूरा ध्यान रखना चाहिए। फिगर के अनुसार पहनावा न होने पर देखने में आप बेमेल और बेढंगी लगेंगी।

- आरती रानी

Share it
Top