Top

शामली में भाजपा नेता की गुंडागर्दी, कारोबारी को दी धमकी, ऑडियो हुआ वायरल- यूपी में काम नहीं करने दूंगा, डीएम बोली- जांच कराएँगे !

शामली। प्रदेश में बीजेपी सरकार बनने के बाद जहां डर को दूर कर व्यापार को बढ़ावा देने और व्यापारियों को सुरक्षा देने के दावे किए गए थे, वही अब कैराना में एक बार फिर से व्यापारी डर के साये में जीने को मजबूर हो गए है क्योकि अब शामली में व्यापारियों को बीजेपी के दबंग नेताओ का ही डर सताने लगा है। डर का यह माहौल कैराना में व्यापारियों के लिए फिर से मुसीबत बनता जा रहा है।

यहाँ व्यापारियो को डराने और धमकाने वाला कोई और नही, बल्कि शामली से स्थानीय बीजेपी नेता अजय संगल हैं। अजय संगल शामली में भाजपा के बड़े नेता है और पिछला नगर पालिका का चुनाव लड़े थे, जिसमे वे पराजित हो गए थे। अजय संगल ने जो धमकी दी है, उसका एक ऑडियो भी वायरल हो रहा है। जिसमें अजय संगल व्यापारी को यूपी में ना घुसने देने की धमकी दे रहे है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसी भी बीजेपी नेता को खनन आदि मामलो में संलिप्त ना रहने के आदेश दिए थे लेकिन फिर भी यहां पर बीजेपी नेता खनन में संलिप्त है ,जिसकी पुष्टि व्यापारी के मुताबिक डीएम शामली ने भी की है और डीएम को तो शायद उक्त बीजेपी नेता ने कारोबार भी अपना ही बता रखा था।

ज़िले के झिंझाना के गांव उदपुर निवासी कुलदीप सिंह पुत्र चाँद सिंह ने बताया कि उसने जनपद शामली के कैराना थाना क्षेत्र के गांव नंगलाराई में देवांश इंफ्रा के नाम से खनन का पट्टा ले रखा है, उसने जब पट्टा लिया था तो स्थानीय मदद के लिए भाजपा के नेता अजय संगल का सहयोग लिया था। कुलदीप सिंह ने बताया कि उनके नाम से 5 साल के लिए वैध खनन पट्टा जारी किया गया है। यह पट्टा प्रशासनिक रूप से रॉयल्टी के आधार पर जारी किया गया है लेकिन एक अक्टूबर से चलने वाली इस खदान पर अब बीजेपी नेताओं ने कब्जा कर लिया है। इतना ही नहीं इस पूरे मामले में कैराना पुलिस भी शामिल है। जिसमे कैराना कोतवाली प्रभारी पर भी खनन व्यापारी ने प्रेसवार्ता में गम्भीर आरोप लगाए है।

कुलदीप सिंह ने बताया कि सिल्वर बेल्स से जुड़े भाजपा नेता अजय संगल को लोकल सपोर्ट के लिए साथ रखा था लेकिन उन्होंने पूरी तरह कब्ज़ा किया हुआ है, वे लगातार धमकी दे रहे है, अजय संगल के साथ अरुण बंसल, अतुल बंसल, मयंक, राजेंद्र गर्ग और कुणाल गर्ग आदि हमे धमकी दे रहे है ।कुलदीप ने बताया कि अजय संगल ने शायद डीएम को भी ये कह रखा है कि खनन उसकी है क्योंकि डीएम मैडम ने कहा है कि खनन तो अजय संगल की है लेकिन डीएम ने कहा कि खनन आपके नाम है तो आपकी पूरी मदद की जायेगी।

कुलदीप ने बताया कि अजय संगल ने उनकी खनन पर लोकल लोगों का कब्ज़ा कराना शुरू कर दिया जिसका हमने विरोध किया तो इन्होने हमे धमकी दी कि जमना नहीं कूदने देंगे ,कुलदीप ने बताया कि एक अक्टूबर से हमारी खनन चलनी थी लेकिन सभी जगह लिखित देने के बाद भी किसी ने आज तक हमारी मदद नहीं की। कोतवाल के पास गया तो उन्होंने तो मुझे उल्टा मुकदमे में जेल भेजने की धमकी दी है। कोतवाल ने कहा कि खदान केवल अजय संगल के साथ ही मिलकर चलानी होगी नहीं तो जेल भेज दूंगा।

आपको याद होगा कि कैराना वही क्षेत्र है जहां से डर के कारण पलायन का मुद्दा गरमाया था। अब व्यापारियों को सुरक्षा देने वाली प्रदेश सरकार के नेता ही व्यापारियों में खुद डर का माहौल पैदा करने लगे है। जिसके कारण अब व्यापारी डरे और सहमे रहने लगे हैं। व्यापारियों की इस दशा में कैराना पुलिस भी अपनी अहम भूमिका निभा रही है। डरे और सहमे व्यापारी ने जिलाधिकारी शामली व अपर मुख्य सचिव भूतत्व एवं खनिज आदि को शिकायती पत्र भेजकर सुरक्षा की गुहार लगाई है। खनन मामले में व्यापारियों को बीजेपी नेता द्वारा जो धमकी दी गई है उसका ऑडियो भी वायरल हो रहा है। जिसमें अजय संगल अपने भतीजे मयंक का नाम लेते हुए व्यापारियों को डरा धमका रहे हैं और खदान ना चलाने व यूपी में ना घुसने देने की धमकी दे रहे हैं [ सुने पूरा ऑडियो ]

जिलाधिकारी जसजीत कौर ने बताया कि एक अक्टूबर से खनन शुरू होना था लेकिन ये जानकारी मिली है कि खनन के लिखित और मौखिक साझेदारों में कोई विवाद है इसका निस्तारण कराया जा रहा है , उन्होंने कहा कि जो वायरल ऑडियो है, वो उन्होंने नहीं सुना, पर उसकी भी जांच कराकर विधि सम्मत कार्यवाही कराई जाएगी।

Share it