Top

मुज़फ्फरनगर की बदहाल सफाई व्यवस्था से मिली नागरिकों को निजात



मुज़फ्फरनगर । मुज़फ्फरनगर में सफाई व्यवस्था चकाचौंध हो गयी है । बदहाल सफ़ाई व्यवस्था से निजात मिलने पर नागरिकों में हर्ष का वातावरण है । जानकारी के अनुसार मुज़फ्फरनगर शहर में बदहाल सफाई व्यवस्था के चलते जहाँ जगह - जगह कूड़े के ढेर एवं गन्दगी नजर आती थी । तथा विभिन्न संक्रमण रोग उत्पन्न होने का खतरा बना रहता था । जिसे लेकर प्रशासन एवं नागरिक हमेशा चिंचित थे । और पालिका प्रशासन के पास पर्याप्त मात्रा में सफाई कर्मचारियों का ना होना भी इसका एकमूल कारण रहा इस सब के चलते शासन द्वारा सफ़ाई व्यवस्था चुस्त दुरुस्त करने के लिए ठेका प्रथा के तहत सफाई व्यवस्था कराये जाने का प्रस्ताव रखा गया। जिसमें जनपद शामली के जाबिर राणा कॉन्ट्रेक्टर को मुज़फ्फरनगर शहर की सफाई व्यवस्था की जिम्मेदारी सौंपी गई।और गत 19 मार्च से जाबिर राणा कॉन्ट्रेक्टर की टीम ने सफाई व्यवस्था की जिम्मेदारी लेते हुए । अपना कार्य सुचारू रूप से प्रारम्भ किया ।मात्र 10 दिन में बदहाल नरकीय नगर को साफ सुथरा और चकाचौंध कर दिखाया ।

जिससे जहाँ कोविड 19 कोरोना वायरस की महामारी में सफाई व्यवस्था की बदहाली भी प्रशासन के लिए एक बहुत बड़ी चुनौती थी कि कहि गन्दगी के कारण संक्रमण रोग ने बढ़ जाए । इस चुनौती भरे वातावरण में जाबिर राणा कॉन्ट्रेक्टर की टीम द्वारा नगर की सुजड़ू चुंगी से रुड़की चुंगी तक ईदगाह चौक से एटूजेड चौराहे तक , काली नदी पल से विश्वकर्मा चौक तक , सरकुलर रोड, महावीर चौक, आर्य समाज रोड, कोर्ट रोड , रेलवे रोड़ , अंसारी रोड , नई मंडी , द्वारकापुरी , गाँधी कॉलोनी , कच्ची सड़क , चुंगी न. 2 , हनुमान चौक, दाल मंडी , पान मंडी , आलू मंडी , सर्राफ़ा बाजार , फक्करशाह चौक , गहरा बाग , सुजड़ू रोड आदि विभिन्न इलाकों में रात - दिन कॉन्ट्रक्टर की सैकड़ों लोगों की टीम ने चकाचौन्ध सफाई व्यवस्था कराकर मुज़फ्फरनगर शहर को सफाई व्यवस्था में उत्तर प्रदेश के अन्य शहरों के मुकाबले एक अलग मिशाल पेश की हैं।

Share it