Top

10 लाख की अवैध शराब व दवाईयों सहित ट्रक भी किया बरामद

10 लाख की अवैध शराब व दवाईयों सहित ट्रक भी किया बरामद

मुजफ्फरनगर। जनपद मुजफ्फरनगर में उद्यमियों की समस्याओं के निस्तारण के सम्बन्ध में आज विकास भवन सभागार मुजफ्फरनगर में केन्द्रीय राज्य मंत्री संजीव कुमार बालियान की अध्यक्षता में बैठक आहूत की गयी, जिसमें प्रदेश के राज्य मंत्री स्वतन्त्र प्रभार, व्यवसायिक शिक्षा एवं कौशल विभाग कपिलदेव अग्रवाल भी उपस्थित रहे।

सर्व प्रथम उद्यमी संगठन द्वारा प्रदूषण विभाग से सम्बन्धित समस्यओं के निस्तारण हेतु कैम्प आयोजित कराने हेतु अनुरोध किया गया, जिस पर आगामी 07 दिसम्बर की तिथि नियत की गयी। अग्निशमन विभाग द्वारा निर्गत होने वाली एनओसी/स्वीकृतियों/ऑनलाईन आवेदन कराने हेतु आगामी 04 दिसम्बर की तिथि कैम्प लगाने हेतु नियत की गयी। नये फायर स्टेशन की स्थापना के सम्बन्ध में आईआईए के पदाधिकारी द्वारा कई विकल्प सुझाये गये, जिसमें भूमि की उपलब्धता की व्यवस्था हेतु चर्चा की गयी कि सभी उद्यमी आपसी समन्वय से स्वयं के अशंदान से भी भूमि की व्यवस्था कर सकते है। विद्युत विभाग औद्योगिक आस्थान में विकास के लिए शासन द्वारा स्वीकृत धनराशि से कार्य प्रारम्भ कराने के उपरान्त रोके जाने पर चर्चा हुई, जिसमें बताया गया कि सम्बन्धित संस्था को पूर्व में कार्य आंवटित किया गया था, जो गुणवत्तापरक न किये जाने के कारण दूसरी कार्यदायी संस्था लोक निर्माण विभाग को हस्तांतरित कर दिया गया, जिस कारण कार्य अवरूद्ध है। विद्युत सम्बन्धी वहलना चौक के पास व्यैक्युम सर्किट ब्रेकर लगनी है, जिस पर मंत्री द्वारा एमडी विद्युुत से दूरभाष पर वार्ता की गयी, जिसमें उन्होंने 02 दिन में उक्त कार्य कराये जाने की सहमति दी। विद्युत ट्रिपिंग की समस्या के समाधान हेतु विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिये। औद्योगिक इकाईयों में उत्पन्न होने वाले प्रदूषण की गम्भीर समस्या से ग्रसित आस-पास के ग्रामीणों की परिशानियों को दूर करने हेतु अध्यक्ष द्वारा औद्योगिक संगठनों से अपील की गयी कि इस हेतु आवश्यक समाधान करने पर विचार करें। वाणिज्य कर विभाग से उद्यमियों के जीएसटी रिफण्ड हेतु नियमानुसार कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये। उद्योग विभाग द्वारा संचालित एक जनपद एक उत्पाद (ओडीओपी) के अन्तर्गत कॉमन फैसिलिटी सेन्टर (सीएफसी) की स्थापना के सम्बन्ध में टेस्टिंग लैब, व्यैक्युम पैकेजिंग आदि से सम्बन्धित डायग्नॉस्टिक स्टडी रिपोर्ट सम्बन्धित संस्था आईएफएलएस द्वारा तैयार कर दी गयी हैं, जिसकी प्रति मुख्य विकास अधिकारी द्वारा मंत्री, औद्योगिक संगठन एवं स्वयं को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये । बैठक में प्रोविडन्ट फण्ड एवं ईएसआई के अधिकारियों के अनुपस्थित रहने पर अध्यक्ष द्वारा रोष व्यक्त करते हुए दूरभाष पर उन्हे आगामी शनिवार आगामी 7 दिसम्बर को अनिवार्य रूप से व्यक्तिगत रूप में अपनी विभागीय योजनाओं के साथ सम्पर्क करने के निर्देश दिये गये। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी, आलोक यादव, अपर जिलाधिकारी, अमित सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट अतुल कुमार, सहायक आयुक्त उद्योग, डा. बनवारीलाल एवं रामेन्द्र कुमार सहायक आयुक्त उद्योग संयुक्त आयुक्त प्रदूषण विपुल कुमार, सहायक श्रम आयुक्त, मुख्य अग्नि शमन अधिकारी, वाणिज्य कर विभाग, विद्युत विभाग, कारखाना अधिकनियम के अधिकारी आदि उपस्थित रहे।

Share it