Top

लूट के बाद की थी कैन्टर चालक जावेद की हत्या....पुलिस ने तीन हत्यारों को किया गिरफ्तार, लूटी गयी रकम में से 83500 रुपये व मोबाईल बरामद

लूट के बाद की थी कैन्टर चालक जावेद की हत्या....पुलिस ने तीन हत्यारों को किया गिरफ्तार, लूटी गयी रकम में से 83500 रुपये व मोबाईल बरामद

मुजफ्फरनगर। खतौली मंडी समिति परिसर में खडे कैन्टर से अमरोहा निवासी जावेद की लाश मिलने के मामले का आज पुलिस ने खुलासा कर दिया है। लूट के बाद आढती के बेटे ने अपने साथियों के साथ मिलकर कैन्टर चालक जावेद की बैल्ट से गला घोंटकर हत्या कर दी थी और उसके पास से एक लाख रुपये की नकदी लूट ली थी। पुलिस ने आज तीन हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर उनके पास से 83 हजार पांच सौ रुपये की नगदी भी बरामद कर ली है। पुलिस लाईन में पत्रकारों से वार्ता करते हुए एसपी सिटी सतपाल अंतिल ने बताया कि विगत 17 नवम्बर को खतौली मंडी समिति परिसर में एक आईसर कैन्टर संख्या-यूपी 21एएन-5564 लावारिस/संदिग्ध् हालत में खड़ा पाया गया था, जिसमें पीछे टमाटर की प्लास्टिक की खोली क्रेट लदी थी। गाडी का भौतिक निरीक्षण करने पर पाया कि गाडी आईसर कैन्टर में टमाटर की खाली क्रेट के नीचे एक व्यक्ति का शव बरामद हुआ, जिसकी शिनाख्त जावेद पुत्र मसरूर निवासी नीलीखेडी थाना डिडौली जनपद अमरोहा के रूप में हुई थी। एसपी सिटी ने बताया कि मृतक जावेद 15 नवम्बर को अमरोहा सब्जी मंडी से अपनी आईसर कैन्टर गाडी संख्या यूपी-21एएन-5564 में टमाटर लादकर मुजफ्फरनगर कूकड़ा मंडी में मैसर्स फैजान राना की दुकान पर लाया था। टमाटर बिक्री करने के बाद टमाटर बिक्री के एक लाख रुपये लेकर अपनी आईसर कैन्टर गाडी से अपने घर अमरोहा जा रहा था, जिसकी अज्ञात बदमाशों द्वारा हत्या कर शव को गाडी में रखकर टमाटर की खाली क्रेटों से ढककर खतौली मंडी परिसर में खडी कर दी गयी थी। इस घटनाक्रम के सम्बंध् में खतौली कोतवाली पर मुकदमा अपराध् संख्या 782/19 धारा 302/201 आईपीसी में पंजीकृत होकर विवेचना प्रभारी निरीक्षक संतोष कुमार त्यागी द्वारा प्रारम्भ की गयी विवेचना के दौरान खतौली कोतवाली पुलिस, एसओजी व सर्विलांस टीम ने भागदौड कर इस घटना का खुलासा कर दिया। पुलिस ने इस घटना में शामिल अभिुयक्त अज्जू पुत्र फैजान राना निवासी मकान नं.-332 मुस्तफा मस्जिद करीमनगर सुजडू, सलमान पुत्र सरफराज निवासी कुंगर पट्टी सुजडू व बिलाल पुत्र शकील निवासी कुंगरपट्टी निकट मदरसा, सुजडू थाना शहर कोतवाली को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में तीनों घटना का इकबाल किया और मृतक जावेद से लूटे गये रुपयों में 83 हजार पांच सौ रुपये, एक मोबाईल फोन, आधार कार्ड व वोटर कार्ड बरामद किये। पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि मुख्य अभियुक्त अज्जू के पिता की आढ़त पर नियमितरूप से जावेद सब्जी बेचने आता था। घटना वाले दिन जब जावेद वहां से अपनी गाडी लेकर जाने लगा, तो अज्जू व उसके दोनों साथियों ने गाड़ी में लिफ्ट ली और रास्ते में शराब भी खरीदी। इसके बाद चारों ने शराब पी और पिफर अज्जू व उसके साथियो ने जानसठ रोड पर कवाल को जाने वाले रास्ते पर सुनसान जगह पर अपनी बैल्ट से जावेद का गला घोंट दिया तथा शव को खाली क्रेटों के नीचे दबा दिया। उनकी योजना थी कि शव को गंगनहर में फेंक देंगे, लेकिन उस दिन डीएम-एसएसपी का क्षेत्र में दौरा था और उनका काफिला रास्ते से गुजरा, तो अभियुक्त डर गये और उन्होंने हडबडाहट में गाडी को खतौली मंडी समिति परिसर में ले जाकर खडा कर दिया। तीनों अभियुक्तों ने जावेद के पास से एक लाख रुपये की नगदी भी लूट ली और फरार हो गये। एसपी सिटी ने बताया कि तीनों ही अभियुक्त बेहद कम उम्र के है और बालिग है। पुलिस ने तीनों को जेल भेज दिया। इस घटना का खुलासा करने वाली खतौली पुलिस, एसओजी व सर्विलांस टीम की एसएसपी ने पीठ थपथपाई है और नगद पुरूस्कार देने की घोषणा की है। इस घटना का खुलासा करने वाली टीम में खतौली कोतवाली प्रभारी संतोष कुमार त्यागी, एसओजी प्रभारी संजीव यादव, एसआई रविन्द्र सिंह, एसआई प्रदीप कुमार चीमा, स्वाट टीम प्रभारी एसआई सुनील शर्मा व पुलिस टीम शामिल रही।

Share it