Top

बेटी की कोथली का सामान खरीदने आई महिला के बैग से बुर्कानशीं ठग महिलाएं 20 हजार रुपये उड़ाकर फुर्र

बेटी की कोथली का सामान खरीदने आई महिला के बैग से बुर्कानशीं ठग महिलाएं 20 हजार रुपये उड़ाकर फुर्र

खतौली। कस्बे में भरने वाली साप्ताहिक जुम्मा पैठ जिस्मफरोशी, छेडख़ानी करने वाले शोहदों, ठग गिरोह के महिला व पुरुष बदमाशों का अड्डा बनकर रह गयी है। पैठ में पुलिसकर्मियों की डयूटी रहती है, किन्तु खाकी व्यवस्था बनाने के बजाये दुकानदारों व पफड़ लगाने वालों से हफ्ता वसूली करने के लिये बदनाम है। इस सबके चलते बेटी की कोथली का सामान खरीदने आयी ग्रामीण महिला के हैंड बैग से बुर्कानशीं ठग महिलाएं बीस हजार रुपये उड़ाकर फुर्र हो गयी। रोती पीटती महिला की शिकायत पर कोतवाली के दरोगा जी पैठ में आये जरूर, लेकिन पूछताछ और ठग महिलाओं की तलाश की औपचारिकता निभाकर वापस लौट गये। गांव शेखपुरा निवासी महिला सोनी पत्नी ललित स्टेट बैंक जी टी रोड़ शाखा के अपने खाते से बीस हजार रुपये निकालकर जुम्मा पैठ से बेटी के लिये गोंदली का सामान खरीदने आयी थी। एक दुकान से सामान खरीदने के दौरान तीन बुर्कानशीं महिलाओं ने सोनी को अपने घेरे में लेकर इसके हैंड बैग से बीस हजार रुपये उड़ा लिये। दुकानदार का भुगतान करने का नम्बर आने पर सोनी को बैग की चैन खुली मिलने पर अपने लुट जाने का अहसास हुआ। सोनी के शोर मचाने से मौके पर भीड़ एकत्रित हो गयी। इधर-उधर की भागदौड़ के बावजूद बुर्कानशीं ठग महिलाएं हत्थे नही चढ़ी। सूचना देने पर कोतवाली के एक दरोगा जी ने पीडि़त महिला को साथ लेकर ठग महिलाओं की पीठ में तलाश की। किन्तु नतीजा ढाक के तीन पात वाला ही रहा। उल्लेखनीय है कि एक जमाने में बहुत छोटे आकार में भरने वाली साप्ताहिक जुम्मा पैठ वर्तमान में सुरसा की तरह फैल गयी है। पैठ के बड़ा आकार लेने से इसमें असमाजिक तत्वों का जमावड़ा लगने के साथ ही अनैतिक कार्य भी शुरू हो गये है। ठगों के लिये भी पैठ मुफीद साबित हो रही है। हर सप्ताह पैठ में होने वाली ठगी की वारदातों के पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज ना होने से बदमाशों के हौसले बुलन्द बने हुए हैं। इसके अलावा व्यवस्था बनाने के नाम पर पैठ में डयूटी देने वाले पुलिसकर्मी दुकानदारों व फड़ वालों से हफ्ता वसूली करने के लिये बदनाम रहते हैं। परेशान लोगों ने जुम्मा पैठ में सक्रिय रहने वाले असमाजिक तत्वों की नाक में नकेल डाले जाने की मांग कोतवाल सन्तोष कुमार त्यागी से की है।

Share it