Top

स्वास्थ्य मेले ने बनाया कीर्तिमान, हुआ रंगारंग समापन...20 हजार नागरिकों ने लिया स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ

मुजफ्फरनगर। चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण द्वारा शहर के जीआईसी मैदान में चल रहे दो दिवसीय मेले का आज ऐतिहासिकल सफलता के साथ रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच समापन हो गया। दो दिन हुए मेले में लगभग 20 हजार नागरिकों ने प्रतिभाग कर अपने चौकअप, उपचार व दवाईयों की सुविधा का नि:शुल्क लाभ लिया। मेले में लगभग 19976 मरीजों से अधिक मरीजों का पंजीकरण हुआ, जो बड़े स्तर पर स्वास्थ्य देने के लिए मेले में मिसाल बन गई। दूसरे स्वास्थ्य मेले का अवलोकन आयुष बोर्ड चेयरमैन डा. सुभाष चंद शर्मा, बुढ़ाना विधायक उमेश मलिक व अन्य सामाजिक प्रबुद्ध नागरिकों ने अवलोकन किया। जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे. व मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव ने मेले में विभिन्न प्रतिभागियों व आयोजन के लिए सम्मानित प्रशस्ति पत्र दिये। आज दूसरे दिन जीआईसी मैदान में स्वास्थ्य विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय वृहद स्वास्थ्य मेले में मुख्य अतिथि आयुष बोर्ड चेयरमैन डा. सुभाष चंद शर्मा व विधायक बुढ़ाना उमेश मलिक ने अपने सम्बोधन में कहा कि मुजफ्फरनगर के स्वास्थ्य मेले ने बड़े पैमाने पर नागरिकों को स्वास्थ्य सुविधाएं दी है। यह अपने आप में एक कीर्तिमान है। चिकित्सा की विभिन्न पद्धतियों से हजारों लोग लाभान्वित हुए हैं। दोनों ने इस सफल आयोजन के लिए चिकित्सा विभाग के अधिकारियों प्रशंसा की। मेले में दोपहर के समय हैल्दी बेबी शो का आयोजन किया गया, जिसमें चिकित्सकीय टीम द्वारा बच्चों के स्वास्थ्य का विभिन्न पैमानों पर अवलोकन कर नमामी पुत्र रविश वर्मा को प्रथम, प्रकृति चौधरी पुत्री सौरभ को द्वितीय, नविका गुप्ता पुत्री नीरज गुप्ता को तृतीय स्थान मिला, वहीं स्वस्थ बुजुर्ग प्रतियोगिता में ज्ञानी गुरुबचन सिंह, शहर काजी जहीर आलम, हरबंस लाल छाबडा को सम्मानित किया गया। जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे. व मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव ने संयुक्त रूप से प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया। जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे. ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा आयोजित यह मेला सफल रहा है। ज्यादा से ज्यादा नागरिकों ने अपनी चिकित्सकीय जांच कराकर उपचार करा लिया है। नागरिकों ने बड़े पैमाने पर इस सुविधा का लाभ लिया है। मेले को सफल बनाने में चिकित्सा विभाग व अधिकारीगण का कार्य प्रशंसनीय रहा है। मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव ने कहा कि मेला सभी को अपनी ओर आकर्षित करने में सफल रहा है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. पीएस मिश्र ने बताया कि दो दिन के स्वास्थ्य मेले में लगभग 19976 नागरिकों ने सुविधाओं का लाभ लिया, जिसमें नागरिकों ने विभिन्न बीमीरियों के जांच के लिए 50 से अधिक स्टॉलों व 100 से अधिक सरकारी चिकित्सकों से स्वास्थ्य सुविधाएं लीं। उन्होंने बताया कि आईएमए से जुडे निजी चिकित्सकों ने भी जनमानस के लिए कार्य किया। उन्होंने बताया कि दो दिन के मेले में लगाये गये स्टॉल, जिनमें सामान्य औषधि, कुष्ठ रोग नियंत्राण, मातृ स्वास्थ्य, टीबी नियंत्रण, बाल स्वास्थ्य, मलेरिया/प्रतिरक्षण/टीकाकरण,दृष्टिहीनता की रोकथाम, परिवार नियोजन परामर्श, धूम्रपान के बुरे प्रभाव, आईईसी, कैंसर नियंत्रण, ईएनटी जांच, व्यक्तिगत/पर्यावरण संबंधी स्वच्छता, दंत जांच, मधुमेह नियंत्रण, हृदय जांच, पुनर्वास, त्वचा, आयुर्वेद, यूनानी, हौम्योपैथी, पोषण हेतु परामर्श, पैथोलॉजी जांच (मूत्र, शूगर, ब्लड शूगर, आरटीआई/एसटीआई/एड्स,एचवी बलगम अल्ट्रासाउण्ड, ईसीजी आदि सुविधाओं का लाभ नागरिकों ने बडे पैमाने पर उठाया। सेल्फी पाइन्ट रहा मुख्य आकर्षण: जीआईसे मैदान में चल रहे दो दिवसीय मेले में स्वास्थ्य विभाग ने एक अनोखा नवाचार किया, जिसमें मेला स्थल के बीच में बड़े तरीके से एक सेल्फी पाइन्ट के साज सज्जाकर तैयार किया गया था। जिसके पीछे लिखा था मैं स्वस्थ हूँ । मेले में आये हजारों लोगों ने फोटो खिंचवाये और बेहतर स्वास्थ्य के लिए लोगों के जागरूक किया। आज आयुष बोर्ड चेयरमैन डा. सुभाष चंद शर्मा व बुढाना विधायक उमेश मलिक, जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे., मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव ने स्वास्थ्य के प्रति जाागरूक रहने के लिए यहां बैठकर फोटो खिंचवाये। देर शाम दो दिवसीय मेले का विधिवत् समापन हुआ। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. पीएस मिश्रा ने सभी अधिकारियों, चिकित्सकों, प्रयत्न संस्था, आर्ट ऑफ लिविंग, मुजफ्फरनगर मैडिकल कालेज, एसडी एफएम 90.8, आईएमए, एसडी फार्मेसी, एसडी मॉसकॉम विभाग आदि विभागों से जुडे छात्र-छात्राओं एवं स्टाफ प्रबंधकों का धन्यवाद दिया। आज मेले में मुख्य रूप से अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. प्रवीण चौपडा, डा. वी.के. सिंह, डा. बी.के. ओझा, डा. एसके अग्रवाल, डा. घनश्यामदास, श्रीमती अलका सिंह, श्रीमती पुष्पा रानी, डा. गीतांजलि वर्मा, उदयवीर सिंह, अनुज सक्सैना, रवि कुमार, सरगम सक्सैना, काव्या शर्मा आदि का सहयोग रहा। कार्यक्रम का सफल संचालन डा. लोकेश गुप्ता एवं कोर्डिनेटर रूचि श्रीवास्तव ने संयुक्त रूप से किया।

Share it