Top

जिला जेल से 170 बंदियों की रिहाई होने के बावजूद नहीं मिली राहत...जेल में 870 की क्षमता के सापेक्ष 2200 कैदी हैं बंद

जिला जेल से 170 बंदियों की रिहाई होने के बावजूद नहीं मिली राहत...जेल में 870 की क्षमता के सापेक्ष 2200 कैदी हैं बंद

मुजफ्फरनगर। कोरोना वायरस को लेकर सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर जिला कारागार से मुजफ्फरनगर व शामली जनपद के 170 बंदियों की रिहाई होने के बावजूद भी जिला कारागार में अभी भी लगभग 2200 लोग बंद हैं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश की चर्चित जिला कारागार मानी जाने वाली मुजफ्फरनगर की जिला जेल में कोरोना वायरस की वजह से 170 बंदियों को छोड़ा जा चुका है, लेकिन इसके बावजूद जिला कारागार में 870 की क्षमता के विपरीत 2200 बंदी/कैदी बंद है। जेल में कैदियों के बोझ को कम करने के लिये न्यायिक प्रक्रिया के तहत जेल से कैदियों को पैरोल व अंतरिम जमानत पर कुछ शर्तो के साथ 8 सप्ताह के लिये छोड़ा गया है। इसी बीच जेल अधीक्षक ए.के. सक्सेना के अनुसार कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिये हर संभव प्रयास किये जा रहे है। जिला जेल में मिलाई का कार्य भी 14 अप्रैल तक बंद है।

जिला कारागार में कैदियों व बंदियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिये लगातार प्रयास किये जा रहे हैं और सेनेटाईजर का छिड़काव भी कराया जा रहा है।

Share it