Top

मुजफ्फरनगर को पुन: स्टील उत्पादन का गढ़ बनाया, उद्यमियों का पलायन रोका,अब थानों की नहीं हो रही है नीलामी -कपिलदेव अग्रवाल

मुजफ्फरनगर को पुन: स्टील उत्पादन का गढ़ बनाया, उद्यमियों का पलायन रोका,अब थानों की नहीं हो रही है नीलामी -कपिलदेव अग्रवाल

मुजफ्फरनगर, 17 सितम्बर उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की योगी आदित्यनाथ सरकार का साढ़े तीन साल का कार्यकाल पूरा होने को है। अपने वायदों और दावों की कसौटी पर यह सरकार कितनी खरी उतरी है, इसकी हकीकत जानने के लिए हमारे प्रतिनिधि ने मुजफ्फरनगर विधानसभा के भाजपा विधायक व प्रदेश के कौशल विकास राज्य मंत्री (स्वतन्त्र प्रभार) कपिलदेव अग्रवाल से विस्तृत बातचीत की। प्रस्तुत हैं बातचीत के महत्पूर्ण अंश...

सवाल-आपने विधायक होने के नाते साढ़े तीन सालों के दौरान क्षेत्र के विकास के लिए क्या किया? कुछ ऐसी बड़ी परियोजनाओं ने बारे में बताएं जो धरातल पर दिख रही हों।

जवाब- मुजफ्फरनगर जो कभी स्टील उद्योग का गढ़ माना जाता था। मगर विपक्ष की विभिन्न सरकारों के समय में यहां का पूरा स्टील उद्योग ठप्प हो चुका था। जनपद में लगभग 110 स्टील फैक्ट्री हैं। जिनमें से लगभग 100 फैक्ट्रियों को हमने बिजली व बुनियादी आवश्यकता, सुरक्षा व व्यापार का माहौल मुहैय्या कराकर पुन: शुरू कराई हैं। बसपा सरकार में उद्यमियों से जबरन गलत बिजली के बिल के 20 करोड़ रुपया जमा कराये थे उनको सही कराकर वापस कराया गया। अब मुजफ्फरनगर पुन:स्टील का बड़ा उत्पादन केन्द्र बन गया है और जनपद से उद्यमियों का पलायन रूक गया है। मुजफ्फरनगर विधान सभा क्षेत्र में 1500 करोड़ रुपये की लागत से विकास कार्य शुरू कराये हैं। जो लगभग एक वर्ष में पूरे हो जाएंगें। जिनमें तीन नदी के पुल, सड़कें, नगर में जल निकासी की समस्या, मेरा ड्रीम प्रोजक्ट था कि शहर के बाहर रिंग रोड़ बने, जिससे नगर में जाम की समस्या दूर हो, उस पर काम शुरू हो गया है और एक वर्ष में पूरा हो जाएगा, चांदपुर व बिलास पुर में दो इन्टर कॉलेज का निर्माण, गैस्ट हाऊस का निर्माण, एसटीपी प्लांट आदि शामिल है।

सवाल-डेढ़ साल बाद चुनाव है। किन मुद्दों को लेकर जनता के बीच जाएंगे? खुद की उपलब्धियों या प्रदेश सरकार की उपलब्धियों को लेकर?

जवाब-मैंने क्षेत्र में जो भी विकास कार्य कराए उसका श्रेय केवल मुझे ही नहीं बल्कि मेरी पार्टी, देश के प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी जाता है। उन्हीं के आशीर्वाद व सहयोग के कारण मुझे क्षेत्र की जनता की सेवा करने का मौका मिला। मैं और अन्य जनप्रतिनिधि भी पार्टी में ही समाहित हैं। पार्टी व कार्यकर्ता शरीर व आत्मा है। इसलिए प्रदेश सरकार व अपनी सभी उपलब्धि व विकास कार्यों को लेकर जनता के बीच चुनाव में जाया जाएगा। जिसे जनता स्वीकार करेगी और 2022 में पुन: भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी। क्योंकि हमने अपनी सभी घोषणाओं को पूरा किया है।

सवाल-उत्तर प्रदेश में आपकी पार्टी की सरकार और अन्य पार्टियों की सरकारों के बीच मूलभूत क्या अंतर है?

जवाब-सामूहिकता का भाव भाजपा का मूल मंत्र है। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की अगुवाई में सुशासन और विकास के लिए कार्य हो रहा है। जन सेवा का कार्य ही भाजपा को अन्य दलों से अलग करती है। सपा, कांग्रेस और बसपा के राजकाज व कार्यशैली को जनता बखूबी जानती है। बसपा मूर्ति बनवाने में विश्वास रखती थी। हम देश प्रेम में विश्वास रखते हैं जिसे बढ़ावा देने के लिए हम शहीदों के नाम पर पुल व सड़कें बनवा रहे हैं। मुजफ्फरनगर का लाल प्रशांत शर्मा जो अभी कश्मीर में तीन आतंकवादियों को गोली से उड़ा कर देश पर शहीद हो गया था, उसके नाम पर नदी का पुल बनवाया जा रहा है । हमारी देश प्रेम व जनता सेवा की भावना हमें अन्य पार्टीयों से अलग करती है। भाजपा के शासन काल में भय का माहौल नहीं है। कानून-व्यवस्था का राज कायम है। जनता सुरक्षा चाहती है। जो हर आम व खास आदमी को उपलब्ध है। सपा के शासनकाल में पुलिस विभाग के थाना व चौकियों की बोली लगती थी अब यह सब नहीं हो रहा है। अपराधियों का बोलबाला था अब अपराधी प्रदेश से पलायन कर गये या जेल में हैं तथा कुछ भगवान के पास है। यह सब व्यवस्था भाजपा को अन्य पार्टियों से अलग करती है।

सवाल-अयोध्या में शुरू हुआ राम मंदिर का निर्माण क्या आगामी विधानसभा चुनाव को प्रभावित करेगा?

जवाब-भगवान श्रीराम मंदिर का विषय भाजपा के लिए राजनीति का विषय नहीं है बल्कि हिन्दुत्व व भारतीयता तथा आस्था का विषय है। यह भारत का सबसे जटिल विषय रहा है। जिसका समाधान भाजपा की सरकार में हुआ है। प्रभु श्रीराम के मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। भले ही इसे कुछ लोग राजनीति की दृष्टि से देख रहे हों, मगर यह सिर्फ आस्था और भावनाओं की प्रतिष्ठा का विषय रहा है। हमारे लिए हिन्दुत्व, देश की अस्मिता व आस्था सर्वोपरि है।

Share it