Top

मुजफ्फरनगर- गुड़ माफियाओं के विरोध में अनिश्चित कालीन हड़ताल पर बैठे गुड़ व्यापारी

मुजफ्फरनगर- गुड़ माफियाओं के विरोध में अनिश्चित कालीन हड़ताल पर बैठे गुड़ व्यापारी


मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर स्थित एशिया की सबसे बडी गुड़ मंडी में सोमवार को गुड़ माफियाओं पर अंकुश लगाने एवं अन्य मांगों को लेकर व्यापारियों ने आज हड़ताल रखी ।

गुड़ खाण्डसारी एण्ड ग्रेन मर्चेन्टस एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय मित्तल का कहना है कि उत्तर प्रदेश सरकार की "एक जनपद-एक उत्पाद योजना" के तहत मुजफ्फरनगर में गुड उत्पाद को सम्मलित तो किया गया लेकिन गुड़ माफियाओं पर अंकुश नहीं लग पाने के कारण मंडी में माल की आवक अत्यन्त कम है। जिससे गुड़ व्यापारियाें में बेहद नाराजगी है। हड़ताल के चलते मंडी में सोमवार को गुड़ एवं चीनी को कारोबार नहीं हुआ।

मित्तल का कहना है कि कूकड़ा नवीन मंडी में चल रहे गुड़ व्यापारियों के धरने को वैलफेयर एसोसिएशन,नई मंडी उद्योग व्यापार मण्डल, संयुक्त उद्योग व्यापार मण्डल, अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मण्डल, निष्काम सेवा समिति,एंटी करप्शन सेल आदि विभिन्न संस्थाओ ने अपना समर्थन दिया।

उन्होंने बताया कि धरने पर बैठे व्यापारियों ने पूरे प्रदेश मे गुड़ पर लगने वाले मंडी शुल्क समाप्त करने की मांग करते हुए कहा कि जिस तरह से सरकार ने गन्ना माफियाओं पर अकुंश लगाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई की ,उसी तरह गुड़ माफियाओं पर भी रासुका लगाई जाय। व्यापारियों ने अवैध रुप से गुड़ मंडी के संचालन पर पूर्णतः रोक लगाये जाने की मांग की गई।

इस मौके पर मित्तल के अलावा एसोसिएशन के महामंत्री श्याम सिंह सैनी, हरिशंकर मूधडा,कृष्णचंद मूंधडा, वरिष्ठ नेता अरूण खण्डेलवाल, सुरेन्द्र बंसल, संजय मिश्रा, भूषण लाल, अमरीश सिंघल, श्याम सुन्दर बेडिया,अचिन्त मित्तल, राजेश गोयल, दिनेश चौधरी, चौधरी जगबीर सिंह, रमेश सिंघल, नरेश गोयल, कपिल कुमार, नितिन सिंघल, धर्मेन्द्र मलिक, मनीष चौधरी सहित अनेक व्यापारी नेता एवं गुुड कारोबारी सम्मलित रहे।

Share it