Top

दलित युवक की हत्या के मामले में चार को उम्रकैद.... कान्हाहेडी के सुरेन्द्र की गला घोंटकर कर दी गयी थी हत्या

दलित युवक की हत्या के मामले में चार को उम्रकैद.... कान्हाहेडी के सुरेन्द्र की गला घोंटकर कर दी गयी थी हत्या

मुजफ्फरनगर। दलित युवक सुरेन्द्र की हत्या के मामले में आज कोर्ट ने चारों आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है और 60-60 हजार रुपये का जुर्माना भी किया है। जुर्माने में से आधी रकम मृतक के परिजनों को देने के निर्देश कोर्ट ने दिये है। कान्हाहेडी निवासी सुरेन्द्र उर्फ बोबी की हत्या कर शव को तितावी क्षेत्र के गांव मुकंदपुर के जंगल में फेंक दिया था। पुरानी रंजिश में दलित युवक की हत्या उस समय कर दी गयी थी, जब वह मुजफ्फरनगर से अपने गांव लौट रहा था। जानकारी के अनुसार चरथावल थाना क्षेत्र के गांव कान्हाहेडी निवासी दलित युवक सुरेन्द्र उर्फ बोबी की गला दबाकर हत्या कर दी गयी थी और उसका शव तितावी थाना क्षेत्र के गांव मुकंदपुर के जंगल में फेंक दिया गया था। सुरेन्द्र की हत्या सात सितम्बर 2002 को पुरानी रंजिश के चलते उस समय कर दी गयी थी, जब वह मुजफ्फरनगर कचहरी से वापिस अपने गांव लौट रहा था। सुरेन्द्र की हत्या करने के बाद उसका शव थाना तितावी क्षेत्र के गांव मुकंदपुर के जंगल में ईंख के खेत में छिपा दिया गया था। इस मामले में चार के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। सुरेन्द्र उर्फ बोबी की हत्या कर उसके शव को खेत में छिपाने के आरोप में ग्राम कान्हाहेडी निवासी पूर्व ग्राम प्रधान कल्लू, अलीहसन, नूरहसन व ईश्वर को कोर्ट ने बीते दिवस हत्या का दोषी ठहराया था, जबकि दलित एक्ट की धारा में आरोपियों को बरी कर दिया गया था। इस मामले में आज सभी चारों आरोपियों को कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। कोर्ट ने चारों पर साठ-साठ हजार रुपये का जुर्माना भी किया है। अलीहसन को 25 शस्त्र अधिनियम में भी तीन वर्ष की सजा सुनाने के साथ ही दो हजार रुपये का जुर्माना भी अलग से किया गया है। कोर्ट ने जुर्माने की रकम से 50 प्रतिशत रकम पीडि़त परिजन को दिलाने का भी आदेश दिया है। इस मामले की सुनवाई विशेष अदालत के जज पंकज कुमार अग्रवाल की कोर्ट में हुईं। अभियोजन की ओर से विशेष अधिवक्ता यशपाल सिंह व एडीजीसी अंजुम खान ने पैरवी की। अभियोजन के अनुसार मृतक सुरेन्द्र उर्फ बोबी सात सितम्बर 2002 को मुजफ्फरनगर कचहरी में आया था, लेकिन घर वापिस नहीं पहुंचा। कान्हाहेडी के पूर्व प्रधान कल्लू समेत चारों आरोपियों ने उसकी हत्या कर शव को तितावी क्षेत्र के गांव मुकंदपुर के जंगल में छिपा दिया था। वादी रेशम ने आरोपी पूर्व प्रधान कल्लू, अली हसन, नूरहसन व ईश्वर को नामजद किया था। इस घटना से पहले शमशेर की हत्या हुई थी, जिसमें मृतक सुरेन्द्र उर्फ बोबी आरोपी था। इसी रंजिश को लेकर सुरेन्द्र उर्फ बोबी की हत्या होना बताई जाती है। इस घटना के सभी आरोपी व मृतक युवक थाना चरथावल क्षेत्र के गांव कान्हाहेडी के निवासी थे और हत्या का मामला थाना तितावी क्षेत्र के गांव मुकंदपुर के जंगल से शव मिलने के कारण थाना तितावी में दर्ज हुआ था।

Share it