Top

क्राइम ब्रांच व सिविल लाईन पुलिस ने पकड़ी पचास लाख की अवैध शराब ... अन्तर्राज्यीय गिरोह के तीन शातिर शराब तस्कर गिरफ्तार

क्राइम ब्रांच व सिविल लाईन पुलिस ने पकड़ी पचास लाख की अवैध शराब ... अन्तर्राज्यीय गिरोह के तीन शातिर शराब तस्कर गिरफ्तार

मुजफ्फरनगर। एसएसपी अभिषेक यादव द्वारा जनपद में चलाये जा रहे जीरो ड्रग्स अभियान के अन्तर्गत एसपी सिटी सतपाल अंतिल के नेतृत्व में क्राइम ब्रांच स्वाट टीम व थाना सिविल लाईन पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर चैकिंग के दौरान सरकूलर रोड से शराब के एक कैंटर सहित तीन शातिर अन्तर्राज्यीय शराब तस्करों को गिरफ्तार किया है, जबकि तीन वहां से फरार हो गये। पुलिस ने उनके कब्जे से लगभग 50 लाख रुपये की कीमत की अवैध् शराब पकडी है, जबकि भारी मात्रा में अवैध नकली शराब के अलावा लाखों रैपर, होलोग्राम, अंग्रेजी व देसी शराब की बोतलों के ढक्कन बरामद किये, जिसके कारण अवैध शराब तैयार होने के बाद बाजारू कीमत से उत्तर प्रदेश सरकार को दो करोड़ साठ लाख रुपये के राजस्व की हानि होती, जिसे क्राइम ब्रांच की टीम ने बचाया है। पुलिस लाईन के मनोरंजन कक्ष में पत्रकारों से वार्ता करते हुए एसएसपी अभिषेक यादव ने बताया कि सिविल लाईन थानाध्यक्ष समयपाल अत्री व क्राइम ब्रांच प्रभारी संजीव यादव के नेतृत्व में पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम ने मुखबिर खास की सूचना पर सरकूलर रोड पर छापा मारकर एक कैंटर संख्या-एचआर38क्यू 6988 को पकड़ा है, जिसमें लगभग 50 लाख रुपये की कीमत की अवैध शराब लदी हुई थी। पुलिस ने मौके से तीन शराब तस्कारों को भी गिरफ्तार कर लिया, जिन्होंने पूछताछ में अपने नाम चमनपाल पुत्र लक्ष्मीचंद निवासी अशोकनगर शाहदरा, सौरभ पुत्र ऋषिपाल निवासी भोपतपुर थाना ककोड़ बुलंदशहर हाल निवासी विश्वासनगर शाहदरा दिल्ली व राजवीर पुत्र महावीर निवासी रायपुर थाना सदर सोनीपत हरियाणा बताया है, जबकि उनके तीन साथी वहां से फरार हो गये, जिनके नाम मनोज उर्फ कप्तान पुत्र ओमपाल निवासी पट्टी धीमान नईवाली टिकरी गांगडोली थाना बडौत बागपत, विजय कुमार पुत्र श्रीकृष्ण निवासी विश्वासनगर शाहदरा, सुन्दरलाल पुत्र राजाराम निवासी पटेलनगर थाना करावलनगर दिल्ली बताया है। एसएसपी ने बताया कि फरार सुन्दरलाल की दिल्ली में फैक्ट्री है, जो नकली रैपर, होलोग्राम व ढक्कन तैयार करता था, जबकि विजय कुमार की प्रिंटिंग प्रेस है और मनोज कुमार बोतले मंगाकर उनमें नकली शराब भरता था। मुख्य आरोपी चमनपाल शहर कोतवाली से 25 हजार रुपये का ईनामी भी था। पुलिस टीम ने बडी संख्या में शराब बनाने के उपकरण भी बरामद किये, जिसमेें ढक्कन, रैपर व होलोग्राम भी शामिल थे। तीनों शराब तस्कर उत्तर प्रदेश, उत्तराखण्ड, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, महाराष्ट्र, दिल्ली में अवैध् शराब की सप्लाई करते थे। डीजीपी ने गुडवर्क करने वाली टीम को पचास हजार रुपये के नकद पुरस्कार देने की घोषणा की है।

Share it