Top

युवती से दुष्कर्म के मामले में दो आरोपियों को गैंगेस्टर में सात-सात वर्ष की सजा सुनाई

युवती से दुष्कर्म के मामले में दो आरोपियों को गैंगेस्टर में सात-सात वर्ष की सजा सुनाई

मुजफ्फरनगर। एक दलित युवती के साथ गैंगरेप के बाद तीन आरोपियों पर गैंगेस्टर लगने के मामले में आज गैंगेस्टर कोर्ट ने दो आरोपियों सईद व मोंटी को सात-सात वर्ष की सजा सुनाई है। दोनों पर 15-15 हजार रुपये का जुर्माना भी किया गया है। यह पहला मौका है, कि जब आरोपियों के विरूद्ध अभी तक पोक्सो कोर्ट में मामला लम्बित होने के बावजूद अच्छी पैरोकारी के चलते गैंगेस्टर एक्ट में मामला पहले निस्तारित हो गया, जबकि एक आरोपी त्रिलोकी की विगत 14 अगस्त को जेल में ही मृत्यु हो चुकी है। अभियोजन की ओर से अभियोजन अधिकारी संदीप सिंह ने पैरवी की। गैंगेस्टर मामले की सुनवाई एडीजे-5 विशेष गैंगेस्टर कोर्ट के जज विरेन्द्र कुमार पांडेय की कोर्ट में हुई। जानकारी के अनुसार नई मंडी थाना क्षेत्र में 19 अगस्त 2017 को एक दलित युवती अपने पडौसी के साथ बाजार जा रही थी, जब वह एटूजेड कॉलोनी के निकट पहुंची, तो तीन युवकों ने युवती को जबरदस्ती गन्ने के खेत में खींच लिया और शोर मचाने पर उसका मुंह दबा दिया। तीनों आरोपियों ने उसके साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया, जिस कारण वह बेहोश हो गयी। दुष्कर्म करने के बाद तीनों युवक वहां से फरार हो गये। कुछ देर बाद होश आने पर उसने शोर मचाया, जिस पर पडौसी वहां पहुंचे और पीडि़ता से पूरी घटना पता कर पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और पीडि़ता का मैडिकल कराया, इस मामले में दुष्कर्म पीडि़ता की तहरीर पर आरोपी सईद, मोंटी व त्रिलोकी के विरुद्ध धारा 376ए, पोस्सो एक्ट व दलित एक्ट में मामला दर्ज करके नई मंडी पुलिस ने कार्यवाही शुरू की, जिसमें तीनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था और इस मामले को पोक्सो कोर्ट में सुना गया। बाद में पुलिस ने संगीन अपराध् के कारण तीनों पर गैंगेस्टर लगा दी थी। गैंगेस्टर कोर्ट में सुनवाई के दौरान ही एक आरोपी त्रिलोकी विगत 14 अगस्त को जेल में मौत हो गयी थी, जबकि दो आरोपियों को दोषी मानकर आज दंडित किया गया है। दोनों पर गैंगेस्टर एक्ट में कार्यवाही की गयी है।

Share it