Top

धर्म-दर्शन - Page 1

  • वास्तु शास्त्र मकान बनाने से पहले, इनका भी ध्यान रखें

    किसी भी भवन, गृह, निवेश आदि में शुभत्व नियोजन की तुलना में अशुभत्व को रोक देना अधिक श्रेयस्कर होता है। एक भी दोष अनेक शुभ गुणों से युक्त भवन को दूषित कर अशुभकारी बना देता है। इसी कारण भवन निर्माण के संदर्भ में नकारात्मक नियोजन से बचाव भी उपलब्धि कारक होता है। दोष निवारण से निर्दोषता बढ़ती है। यहां...

  • तीन शिव मंदिरों के साथ अद्भूत त्रिभुज का निर्माण करता है अंबिका मंदिर

    बिहार के सारण जिला मुख्यालय छपरा से लगभग 24 किलोमीटर पूर्व दिघवारा इलाके में अवस्थित अम्बिका स्थान मंदिर श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र है जो भगवान शिव के विश्वप्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर, विश्वनाथ मंदिर और वैद्यनाथ धाम के साथ अद्भुत त्रिभुज का निर्माण करता है। मंदिर के पुजारी सह मां अम्बिका ...

  • शैलपुत्री

    वन्दे वांछितलाभाय चन्द्राधकृतशेखराम्। वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्री यशस्विनीम्।।मां दुर्गा अपने पहले स्वरूप में शैलपुत्री के नाम से जानी जाती हैं। पर्वतराज हिमालय के यहां पुत्री के रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका यह शैलपुत्री नाम पडा था। वृषभ स्थित इन माता जी के...

  • मां करणी मंदिर के दर्शन सात सौ वर्षो में पहली बार हुए बंद

    बीकानेर - कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए राजस्थान सरकार की हिदायत के बाद विश्व प्रसिद्व मां करणी मंदिर के ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने भी निर्णय लेकर शुक्रवार दोपहर बाद मंदिर के द्वार को बंद कर दिया। ट्रस्ट अध्यक्ष गिरिराजसिंह बारहठ ने बताया कि आगामी 31 मार्च तक मंदिर में आमजन के लिए दर्शन बंद रहेगें ...

  • सही परामर्श

    चन्दनगर एक छोटा सा राज्य था। उदयभानु उस समय वहां के राजा थे। राजा बड़ा दयालु और दानवीर था। उसके राज्य के बाहर जंगल और उद्यानों में अनेक पशु-पक्षी निर्भय होकर स्वतन्त्र रूप से घूमते थे क्योंकि वहां के नागरिक उनका शिकार नहीं करते थे। इसलिये; आसपास के राज्यों में भी पक्षी वहां आकर जंगल में मंगल करने...

  • ज्योतिष: जन्मदिन का गहरा प्रभाव पड़ता है व्यक्ति के जीवन पर

    जन्म लेने वाले जातक (व्यक्ति) के जीवन पर जन्मदिन का भी प्रभाव पड़ता है। सप्ताह के सातों दिनों का महत्व एवं प्रभाव अलग-अलग होता है। जिस दिन जो व्यक्ति जन्म लेता है, उस दिन का प्रभाव उस व्यक्ति के जीवन पर किस प्रकार पड़ता है, उसका विवरण ज्योतिषीय आधार पर प्रस्तुत है- रविवार को भगवान् सूर्य का दिन...

  • धर्म/अध्यात्म: गणेश वाहन मूषक क्यों

    गणेश जी का वाहन मूषक (चूहा) क्यों है, यह एक विचारणीय तथ्य है। गणेश जी के साथ मूषक भी आदरणीय हो गया है। लोग आज मूषक को (भले ही वह कितना भी नुकसान क्यों न कर रहा हो) गणपति का वाहन जान श्रद्धा और आदर अर्पित करते हैं। मूषक गणेश जी का वाहन कैसे बना, इस पर गणेश पुराण में कथा आती है कि प्राचीन काल में...

  • पूजा में रखें कुछ खास चीजों का ध्यान

    हमारे धर्म ग्रंथों में देवताओं के पूजन से संबंधित बहुत सी जरूरी बातें बताई गई है। ये बातें बहुत ही महत्त्वपूर्ण हैं। आज हम आपको पूजन से जुड़ी यही कुछ जरूरी बातें बता रहे हैं: ० सूर्य, श्रीगणेश, दुर्गा, शिव और विष्णु को पंचदेव कहा गया है। सुख की इच्छा रखने वाले हर मनुष्य को प्रतिदिन इन पांचों...

  • होली: कामदेव की आराधना का उत्सव

    ऋग्वेद की सृष्टि सूक्त में सृष्टि प्रक्रि या का मूल 'काम' (सैक्स) को ही माना गया है। कहा गया है कि 'काम' से ही सृष्टि का अस्तित्व है। काम के बिना काया-माया की कल्पना तक नहीं की जा सकती। 'काम' के देव के रूप में कामदेव को माना जाता है। इस कामदेव की पूजा का उत्सव वसन्त ऋतु में ही सम्पन्न होता है। इसी...

  • हास्य: होली पर आपका भविष्यफल

    हमारे प्रख्यात भविष्यवक्ता पं. अदूरदर्शी शास्त्रीजी ने तबियत से भांग छानकर पाठकों के लिए उनका राशिफल तैयार किया है। पंडित जी का दावा है कि उनकी भविष्यवाणियां शत प्रतिशत सही सिद्ध होंगी क्योंकि भंग की तरंग में अंतरिक्ष यान में सवार होकर उन्होंने ग्रहों-नक्षत्रों की हरकतें देखी हैं। सो आपकी सेवा में...

  • आत्मनिरीक्षण क्यों है जरूरी

    हममें से कितने लोग हैं जो अपने को इम्पू्रव करने के लिए आत्मनिरीक्षण का सहारा लेते हैं या इसकी जरूरत समझते हैं? अक्सर लोग इसी खुशफहमी में रहते हैं कि उनसे अच्छा कोई नहीं। वे जो सोचते हैं करते हैं, बस वही ठीक है। गलत सिर्फ दूसरे ही होते हैं। दरअसल व्यक्ति अपने बारे में जो सोचता है और जो वास्तविकता...

  • ज्योतिष: दुष्कर नहीं है मंगली कन्या का विवाह

    हिन्दू विवाह मात्र स्त्री-पुरूष का साथ रहने का समझौता नहीं है। यह ऋषियों की उच्चतम मानसिक स्थिति से बनाया गया विधान है। विवाह के वैदिक विधान स्त्री-पुरूष के वैवाहिक जीवन को अधिकतम सुखद और मधुर बनाने के लिए सृजित किये गये हैं। इसी हेतु विवाह संबंध में वर कन्या के शारीरिक गुण-दोष, शिक्षा, बुद्धि व ...

Share it