Top

बाल जगत

  • बच्चों को मनोरंजक तरीके से पढ़ाएं

    अभिभावकों के लिए सबसे मुश्किल का काम होता है, अपने बच्चों को पढ़ाना। ऐसे में अभिभावक होने के नाते आपकी यह जिम्मेदारी बनती है कि, एक बच्चे को सही तरह से कैसे पढ़ाया जाए इसकी जानकारी आपको होनी चाहिये। आमतौर पर अभिभावक पढ़ाई के दौरान अपने बच्चों की पिटाई करते हैं, ताकि वह डर से पढ़ाई कर सके। लेकिन, यह...

  • गिलहरी के शरीर पर राम की अंगुलियों के निशान

    शहर हो या गांव अथवा जंगल, गिलहरियां, पेड़ जहां होते हैं वहां सामान्यत: पाई जाती हैं। जीव विज्ञानियों के मुताबिक विश्व भर में गिलहरियों की करीब ढाई सौ प्रजातियां पाई जाती हैं। ऑस्टेलिया, न्यूजीलैंड और दक्षिण अमेरिका के दक्षिणी भाग में गिलहरियां प्राय: नहीं मिलती।भारत और श्रीलंका में बहुतायत में जिस...

  • बच्चों के लिए खेलना है सबसे अच्छा व्यायाम

    बच्चों का विकास स्वस्थ तरीके से हो तो उसके लिए खेलना बहुत आवश्यक है। इसलिए एक पालक होने के नाते आपको यह जानना आवश्यक है कि बच्चों के जीवन में खेल के क्या फायदे हैं। यदि आप बच्चों को उनके बचपन में खेलने से रोक रहे हैं तो वास्तव में आप उनका बचपन उनसे छीन रहे हैं। खेलना बच्चों के लिए सबसे...

  • साधु और चूहा

    सरल जैन बहुत समय पहले की बात है। एक गांव में एक साधु मंदिर में रहा करता था। उनकी दिनचर्या रोजाना प्रभु की भक्ति कराना और आने-जाने वाले लोगों को धर्म का उपदेश देना थी। गांव वाले भी जब भी मंदिर आते, तो साधु को कुछ न कुछ दान में दे जाते थे। इसलिए, साधु को भोजन और वस्त्र की कोई कमी नहीं होती...

  • गोरा खरगोश

    डॉ. मधु पंत, गीता गौतमसागर के किनारे एक खरगोश रहता था। वह खरगोश सबसे सफ़ेद था इसलिए सब उसे 'गोरा खरगोश' कहते थे। उस खरगोश को दूसरे देशों को देखने की बहुत लगन थी।एक दिन उस खरगोश ने एक चिड़िया से पूछा-चिड़िया रानी! तुम किस देश से आई हो? वहाँ तुमने क्या-क्या देखा?चिड़िया बोली-मैं दूर केरल द...

  • चुहिया का स्वयंवर

    गंगा नदी के किनारे एक तपस्वियों का आश्रम था । वहाँ याज्ञवल्क्य नाम के मुनि रहते थे । मुनिवर एक नदी के किनारे जल लेकर आचमन कर रहे थे कि पानी से भरी हथेली में ऊपर से एक चुहिया गिर गई । उस चुहिया को आकाश मेम बाज लिये जा रहा था । उसके पंजे से छूटकर वह नीचे गिर गई । मुनि ने उसे पीपल के पत्ते पर रखा और...

  • हाथी और चतुर खरगोश

    एक वन में 'चतुर्दन्त' नाम का महाकाय हाथी रहता था । वह अपने हाथीदल का मुखिया था । बरसों तक सूखा पड़ने के कारण वहा के सब झील, तलैया, ताल सूख गये, और वृक्ष मुरझा गए । सब हाथियों ने मिलकर अपने गजराज चतुर्दन्त को कहा कि हमारे बच्चे भूख-प्यास से मर गए, जो शेष हैं मरने वाले हैं । इसलिये जल्दी ही किसी बड़े...

  • मूर्खमंडली

    एक पर्वतीय प्रदेश के महाकाय वृक्ष पर सिन्धुक नाम का एक पक्षी रहता था । उसकी विष्ठा में स्वर्ण-कण होते थे । एक दिन एक व्याध उधर से गुजर रहा था । व्याध को उसकी विष्ठा के स्वर्णमयी होने का ज्ञान नहीं था । इससे सम्भव था कि व्याध उसकी उपेक्षा करके आगे निकल जाता । किन्तु मूर्ख सिन्धुक पक्षी ने वृक्ष के...

  • प्रेम का मूल्य

    बृहस्पति छोटे देवतओं का गुरु था। उसने अपने बेटे कच को संसार में भेजा कि शंकराचार्य से अमर-जीवन का रहस्य मालूम करे। कच शिक्षा प्राप्त करके स्वर्ग-लोक को जाने के लिए तैयार था। उस समय वह अपने गुरु की पुत्री देवयानी से विदा लेने के लिए आया।कच- 'देवयानी, मैं विदा लेने के लिए आया हूं। तुम्हारे पिता के...

  • जानिए हिंदू रीति से कैसे करें अपने बच्‍चे का नामकरण

    25 जुलाई। हिंदु रीति में नामकरण का एक विशेष महत्व होता है। हर किसी के जन्म के बाद उसके नाम पर सबकी नजरें होती है कि बच्चे का नाम क्या रखा जाएगा। अगर आप नामकरण के अर्थ को समझें तो यह दो शब्दों से मिलकर बना है नाम और करण। आप सभी नाम का अर्थ तो जानते ही है संस्कृत में करण का अर्थ होता है बनाना या सृजन...

  • कहानी : जल की मिठास

    एक शिष्य अपने गुरु से सप्ताह भर की छुट्टी लेकर अपने गांव जा रहा था। तब गांव पैदल ही जाना पड़ता था। जाते समय रास्ते में उसे एक कुआं दिखाई दिया।शिष्य प्यासा था, इसलिए उसने कुएं से पानी निकाला और अपना गला तर किया। शिष्य को अद्भुत तृप्ति मिली, क्योंकि कुएं का जल बेहद मीठा और ठंडा था। शिष्य ने सोचा -...

  • ट्विंकल खन्ना ने बच्‍चों की हेेल्‍दी डाइट के लिए दिए कुछ टिप्‍स

    17 जुलाई। मानसून का सीजन दस्तक दे चुका है। इस मौसम में ना सिर्फ बड़ों बल्कि बच्चों की भी डाइट बदलने की जरूरत होती है क्योंकि इस मौसम में बीमारियों का खतरा अधिक होता है। वहीं हाल ही में बॉलीवुड एक्ट्रेस ट्विंकल खन्ना ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से एक फोटो शेयर की है, जिसमें वो बच्चों के लिए हैल्दी...

Share it