Top

नवरात्र पारायण 30 जून को रहेगा: संजीव शंकर

नवरात्र पारायण 30 जून को रहेगा: संजीव शंकर

मुजफ्फरनगर। हिंदू पंचांग कैलेंडर के अनुसार वर्ष भर में भगवती पूजन के चार अवसर नवरात्रि के रूप में आते हैं। इसमें चैत्र, आषाढ, अश्विन व पौष मास के शुक्ल पक्ष में नवरात्रि उत्सव बनाने की परंपरा है।

महामृत्युंजय सेवा मिशन अध्यक्ष पंडित संजीव शंकर ने बताया कि चैत्र व अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रथमा तिथि से नवमी तिथि तक नवरात्र उत्सव सार्वजनिक रूप से मनाए जाते हैं, वही आषाढ़ व पौष मास के नवरात्रों को गोपनीय अर्थात गुप्त नवरात्रि की संज्ञा दी गई है। इस वर्ष आषाढ़ मास शुक्ल पक्ष के गुप्त नवरात्रि 22 जून दिन सोमवार से प्रारंभ होकर 29 जून सोमवार को समाप्त होंगे तथा नवरात्र पारायण 30 जून को रहेगा, इस अवधि में गोपनीय रूप से शक्ति को बढ़ाने के लिए निर्देशित किया गया है इस समय भगवती उपासना के लिए जो भी मंत्र का जप हो का प्रदर्शन नहीं करना चाहिए। एकांत में ज्योति प्रज्वलित कर भगवती का कोई भी प्रिय मंत्र निश्चित संख्या में जपना चाहिए। शक्ति बढ़ाने के लिए अथवा शत्रु नाश के लिए इन गोपनीय नवरात्रों का अधिक महत्व है, शत्रु किसी व्यक्ति को नहीं कहा गया वरन रोग रूपे शत्रु, कजऱ् रूपी शत्रु भी इसमें समाहित किया गया है। शास्त्रों में भगवती की यह उपासना तत्काल फल देने वाली है। गुप्त नवरात्र संपन्न होने में अभी 2 दिन शेष है इसका लाभ भगवती उपासना कर भक्त उठा सकते हैं।

Share it