Top

कर्ज से मुक्ति चाहिए तो करें ये सरल उपाय

कर्ज से मुक्ति चाहिए तो करें ये सरल उपाय

कर्ज आज पूरी दुनिया के सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है। नई कार, नया घर खरीदना, शैक्षिक शुल्क आदि जैसी जीवन की परेशानियों को हल करने के लिए लोग कर्ज ले तो लेते हैं, परन्तु कई बार वे समय पर उसका भुगतान नहीं कर पाते है। लिये गए कर्ज का समय पर भुगतान न कर पाने की स्थिति में व्यक्ति को अपनी गिरवी संपत्ति, गहने और अन्य वस्तुओं को खोना पड़ता है, साथ में ही उन्हें खोना पड़ता है अपना मान-सम्मान।

यह भी देखने में आता है कि अनेक किसान और अन्य व्यक्ति अपने कर्ज का भुगतान न कर पाने पर आत्महत्या जैसा कदम उठा लेते हैं और कुछ अपने देश से भागकर दूसरे देश चले जाते है। यदि किसी व्यक्ति ने किसी कारणवश कर्ज ले भी लिया है तो वह निम्न उपायों को अपनाकर अपने कर्जों से मुक्ति पा सकता है।

ज्योतिष शास्त्र में षष्ठम, अष्टम, द्वादश भाव एवं मंगल को कर्ज का कारक ग्रह माना जाता है। मंगल के कमजोर होने पर या पाप ग्रह से संबंधित होने पर या अष्टम, द्वादश, षष्ठम भाव में पर नीच स्थिति में होने पर व्यक्ति सदैव ऋणी बना रहता है। ऐसे में यदि मंगल पर शुभ ग्रहों की दृष्टि पड़े तो कर्ज होता है, लेकिन मुश्किल से उतरता है।

शास्त्रों में मंगलवार और बुधवार को कर्ज के लेन-देन के लिए वर्जित किया गया है। मंगलवार को कर्ज लेने वाला व्यक्ति आसानी से कर्ज चुका नहीं पाता है तथा उस व्यक्ति की संतान भी इस वजह से परेशानियां उठाती है। कर्ज निवारण से मुक्ति के लिए उपाय।

1 शनिवार को ऋणमुक्तेश्वर महादेव का पूजन करें।

2 मंगल की पूजा, दान और मंगल के मंत्रों का जप करें।

3 मंगल एवं बुधवार को कर्ज का लेन-देन न करें।

4 लाल, सफेद वस्त्रों का अधिकतम प्रयोग करें।

5 श्रीगणेश को प्रतिदिन दूर्वा और मोदक का भोग लगाएं।

6 श्रीगणेश के अथर्वशीर्ष का पाठ प्रति बुधवार करें।

7 शिवलिंग पर प्रतिदिन कच्चा दूध चढ़ाएं।

यदि आपकी रकम कहीं फंस गई है और पैसे वापिस नहीं मिल रहे तो आप रोज़ सुबह नहाने के पश्चात सूरज को जल अर्पण करें!

उस जल में 11 बीज लाल मिर्च के डाल दें तथा सूर्य भगवान से पैसे वापिसी की प्रार्थना करें! इसके साथ ही

ऊं आदित्याय नम: का जाप करें!

रोजाना लाल मिर्च के ग्यारह बीज जलपात्र में डालकर सूर्य को अध्र्य दें। सूर्याय नम: कहते हुए अपने रुके धन की प्राप्ति की प्रार्थना करें।

शुक्ल पक्ष के गुरूवार से अपने माथे पर केसर एवं चन्दन का तिलक लगाना आरम्भ कर दें। प्रत्येक गुरूवार को रामदरबार के सामने दण्डवत प्रणाम कर मनोकामना करें, कार्य सफल हो जाएगा।

- ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव

श्री मां चिंतपूर्णी ज्योतिष संस्थान

5, महारानी बाग, नई दिल्ली-110014

8178677715, 9811598848

Share it
Top