Top

धर्म -अध्यात्म

  • अनमोल वचन

    ज्ञान प्राप्त करने के लिए न उपदेश की जरूरत होती है और न ही ग्रंथों के अध्ययन की। अणु और परमाणु को जान लेना भी ज्ञान नहीं है। ज्ञान ऐसा होना चाहिए जो ग्रहण करने के बाद हमारे कर्म और व्यवहार में उतर सके। जो ज्ञान हमारे कर्म और व्यवहार में न दिखे वैसा ज्ञान स्वयं तक के लिए लाभकारी नहीं होता। ऐसा ज्ञान...

  • आज से श्रावण मास हुआ शुरू,अबकी सावन है खास, भोले पूरी करेंगे अरदास

    जालौन - देवाधिदेव महादेव के प्रिय मास श्रावण मास में वर्षों बाद अदभुत संयाेग है जब श्रद्धालुओं को पांच सोमवार भोले की भक्ति आराधना और साधना का अवसर मिलेगा।गांधी महाविद्यालय मे संस्कृत विभाग के विभागाध्यक्ष शिवसम्पत द्विवेदी ने यूनीवार्ता से कहा कि इस बार के पांच सोमवार इसलिये भी महत्वपूर्ण है...

  • अनमोल वचन

    गुरूनानक कहते हैं नानक दुखिया सब संसार, इस संसार में दुखों की कोई कमी नहीं, जिधर भी दृष्टि डालो, दुखिया ही नजर आते हैं। जब दुख के कारणों पर विचार करते हैं तो अजीब सी स्थिति सामने आती हैं। कोई परिवार बडा होने पर दुखी है, तो कोई परिवार न होने पर दुखी है। कई बार हम अपने दुखों का कारण दूसरों को मानते...

  • अनमोल वचन

    संसार का मायाजाल मकडी के जाल की भांति है, जो जीव उसमें एक बार फंस जाता है वह निकल नहीं पाता। यही दुख का कारण है और दुख का केन्द्र भी। पूरे विश्व की स्थिति का आकलन करें तो पायेंगे कि लोग बहुत दुखी हैं। सबके सामने समस्याएं हैं। समाज में गरीबी, अपराध, हिंसा, लूट, अपहरण, तनाव आदि की घटनाएं बढती जा रही...

  • देवशयनी एकादशी पर सो गए भगवान विष्णु, रक्षा का भार भगवान शिव पर

    -अधिमास के चलते इस साल पांच माह रहेगा चार्तुमास, नहीं होंगे मांगलिक कार्य -देवोत्थान एकादशी के दिन 25 नवम्बर को पूर्ण होगी भगवान विष्णु की योग निद्रा देवशयनी एकादशी के साथ बुधवार को चार्तुमास प्रारम्भ हो गया। सनातन मान्यता के अनुसार आज से भगवान विष्णु शयन में चले जाएंगे और देवोत्थान एकादश...

  • नवरात्र पारायण 30 जून को रहेगा: संजीव शंकर

    मुजफ्फरनगर। हिंदू पंचांग कैलेंडर के अनुसार वर्ष भर में भगवती पूजन के चार अवसर नवरात्रि के रूप में आते हैं। इसमें चैत्र, आषाढ, अश्विन व पौष मास के शुक्ल पक्ष में नवरात्रि उत्सव बनाने की परंपरा है। महामृत्युंजय सेवा मिशन अध्यक्ष पंडित संजीव शंकर ने बताया कि चैत्र व अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रथमा...

  • अनमोल वचन

    स्वामी विवेकानन्द कहते हैं कि यदि तुम ठान लो तो कोई भी कार्य असम्भव नहीं है। तुम महात्मा बुद्ध बनना चाहोगे तो वही बन जाओगे। कोई आदमी दूसरों से प्रेरणा पाकर भी उत्कृष्ट कार्य कर सकता है, परन्तु व्यक्ति की भीतरी प्रेरणा अधिक महत्वपूर्ण होती है। बाहर से ली गई प्रेरणा कुछ समय के लिए ही होती है,...

  • क्या करें अगर कुंडली में पितृ ऋण हो तो..?

    1. जीवित पिता और गुरु की सेवा करें। ध्यान रहे कोई भी ऐसा कार्य न होने पाये जिससे पिता और गुरु को कष्ट हो।2. माता-पिता और गुरु के चरण छूकर आशीर्वाद लेकर ही घर से बाहर निकलें। सफलता अवश्य मिलेगी। 3. प्रतिदिन दो रोटी गाय को खिलाएं। 4. प्रतिदिन किसी एक जोड़े को भोजन कराकर दक्षिणा देकर विदा करें। 5....

Share it